Advertisements

sidheshwari

गरीब मां बाप की सुंदर मोढी
अंधेरे में पल पल हुई बढ़ी
मांग मांग कर कापी किताब
चौथी कक्षा तक ही पढ़ी
जैसे जैसे बीता साल
बिटिया करती गई कमाल
काम काज कर हुई सयानी
रखती मां बाप का ख्याल
पापा करते मेहनत मजदूरी
पानी भरती मां बेचारी
घर घर काम वो करती
गरीबी की मार बढ़ी लाचारी
मां बाप की चिंता बढ़ी
पूनम की चांद की तरह बढ़ी
प्यार से उसको ब्याह रचाया
दुल्हन बन डोली चढी
आदमी निकला बड़ा निकम्मा
जूये ताश में हमेशा था रमा
घर में पढ गये खाने के लाले
जेवर बर्तन गिरवी रख डाले
साहुकार ने किया फरमान
पैसे दे ले जा सामान
गिरवी रख जा कोई चीज
रख अपने गृहस्थी का मान
किराए से सब कुछ मिलता है
कुछ साल आराम से जी सकती हैं
उसने अपने घर के खातिर
अपना कोख ही गिरवी रख डाली।
अपना कोख ही गिरवी रख डाली।

#सिद्धेश्वरी सराफ (शीलू)
     जबलपुर मध्य प्रदेश
(Visited 24 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2019/05/sidheshwari.pnghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2019/05/sidheshwari-150x150.pngmatruadminUncategorizedकाव्यभाषाsaraf,shilu,sidhheshwariगरीब मां बाप की सुंदर मोढी अंधेरे में पल पल हुई बढ़ी मांग मांग कर कापी किताब चौथी कक्षा तक ही पढ़ी जैसे जैसे बीता साल बिटिया करती गई कमाल काम काज कर हुई सयानी रखती मां बाप का ख्याल पापा करते मेहनत मजदूरी पानी भरती मां बेचारी घर घर काम वो करती गरीबी की मार बढ़ी लाचारी मां बाप की...Vaicharik mahakumbh
Custom Text