गमला भर मिट्टी

0 0
Read Time3 Minute, 15 Second

chandra sayata
विकास आज बेहद खुश था, क्योंकि उसके गमले में आज हरी हरी  और नन्हीं नंन्ही पत्तियां आ चुकी थीं।
.. दस साल के विकास.ने आठ दस दिन पहले ही कटी हुई सब्जी के कचरे में से कुछ बीज अलग करके छोटे से गमले मे ं डाल दिये थे। गमले में मिट्टी उसने घर के माली से डलवा ली थी।
..माली एक दिन छोड़  कर आयया करता था । माली का आना और विकास का  परछाई बनकर उसके साथ साथ घूमना और बार बार सवाल करना.. विकास की एक आदत बन चुकी थी।
माता पिता दोनों अपने बेटे की इस प्रकार की गतिविधि देखकर अख्सर कहते— ” क्यों विकास ।  ईंजीनियर का बेटा  माली बनेगा? ”
विकास सुनी अनसुनी कर देता।
कुछ दिन पक्षले विकास.के घर एक बुजुर्ग मैहमान आए थे,जो आज जा रहे थे।
उन्होनेँ  जाते जाते अपने मित्र और विकास के दादा जी से
एक बात कही—
” सुन यार दीपचंद तुम्हारा.पोता एक दिन बड़ी शक्सियत बनेगा”
दीफचंद ने विस्मय से अपने मित्र की ओर देखा मानों पूछना चाह रहा.हो ‘कैसे?’
मित्र ने अपना अधूरा वाक्य पूरा किया
“……. बशर्ते इसके मां बाप इसकी परवरिश ठीक वैसी ही करें, जैसे यह बालक अफने  गमले में पौधा विकसित करने के लिये कर रहा। है।”

#डा. चंद्रा सायता
    इंदौर(मध्यप्रदेश)

परिचय-
नाम:- डॉ चन्द्रा सायता

जन्मस्थान:-  सख्खर सिंध(अखंड भारत वर्तमान पाकिस्तान)

शिक्षा:- स्नातकोत्तर ( समाजशास्त्र, हिंदी साहित्य तथा अंग्रेजी साहित्य), विधि स्नातक,पीएचडी.डी( अनुवाद प्रक्रिया

:-एक शास्त्रीय अध्ययन)

सेवाऐं:-प्राध्यापक, अन्वेषक(गृह मंत्रालय, भारत सरकार ंका जनगणना विभाग) तथा सहायक निदेशक ( राज भाषा) 

प्रकाशन:-काव्य संग्रह (परिचय, कलरव,मन की रेखाएं)

              लघु कथा संग्रह ( गिरहें)

               काव्य संकलन( ज्योतिका,काव्य सुरभि, यशधारा

               लघु कथा सप्तक, आदि ।

                 पत्र – पत्रिकापत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन

पुरस्कार/सम्मान:-भारतीय अनुवाद परिषद ,नई दिल्ली

                       से ‘नातालि’सम्मानतथा अन्य स्थानीय राज.                          राज्यस्तरीय तथा राष्ट्रीय स्तर की संस्थाओं                          से सम्मान ।

लेखन विधाएं:- काव्य, लघु कथा, आलेख, अनुवाद (अं-हि.  ,हिंदी. अंतिम)विदेश भ्रमण:– अमेरिका, ब्रिटेन, दुबई, थाई्लेडं, पाकिस्तानरूस नेपाल आदि।
दिस,2019 में प्रकाशित मेरा लघुकथा संग्रह  ‘ माटी कहे कुम्हार से’

 
 
 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मोहब्बत दिल से होती है

Thu May 23 , 2019
मोहब्बत सूरत से नहीं होती है। मोहब्बत तो दिल से होती है। सूरत खुद प्यारी लगने लगती है। कद्र जिनकी दिल में होती है।। मुझे आदत नहीं कही रुकने की। लेकिन जबसे तुम मुझे मिले हो। दिल कही और ठहरता नहीं है। दिल धड़कता है बस आपके लिए।। कितनो ने […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।