Advertisements
cropped-cropped-finaltry002-1.png
कभी-कभी सुबह-सुबह देखने आना-
वह नदी, जो बचपन से बह रही है,
वह पहाड़, जो अडिग है,
वह मृत्यु ,जो पल पल देखी गयी है,
वह समुद्र, जो गरजता रहता है,
वह जंगल, जो बीहड़ हो चुका है।
रास्ते जो कटे -फटे हैं,
पेड़ जो कट रहे हैं,
देश जो बँट रहे हैं,
उदासी जो घिर रही है,
आँसू जो गिर रहे हैं।
खुशियाँ जो गुम होती जा रही हैं,
संस्कृतियां जो नष्ट हो रही हैं,
गांव जो खाली हो रहे हैं,
विवशताएं जो मुँह खोले हैं।
राजनीति जो छिन्न-भिन्न हो रही है,
भ्रष्टाचार जो क्लिष्ट हो रहा है,
 घर जो ढह रहे हैं,
त्योहार जो मर रहे हैं,
गंगा जो मैली बह रही है।
लोग जो बुजुर्ग हो गये हैं,
लड़कियां जो नानी बन गयी हैं,
लड़के जो नाना बन गये हैं,
मौसम जो नये लग रहे हैं,
हँसी जो मध्यम हो चुकी है।
श्मशान जो जल रहे हैं,
कब्रिस्तान जो खुद रहे हैं,
मित्रता जो मिट रही है,
स्रोत जो सूख रहे हैं।
#महेश रौतेला
(Visited 21 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2016/11/cropped-cropped-finaltry002-1.pnghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2016/11/cropped-cropped-finaltry002-1-150x100.pngmatruadminUncategorizedकाव्यभाषाmahesh,routelaकभी-कभी सुबह-सुबह देखने आना- वह नदी, जो बचपन से बह रही है, वह पहाड़, जो अडिग है, वह मृत्यु ,जो पल पल देखी गयी है, वह समुद्र, जो गरजता रहता है, वह जंगल, जो बीहड़ हो चुका है। रास्ते जो कटे -फटे हैं, पेड़ जो कट रहे हैं, देश जो बँट रहे हैं, उदासी जो घिर रही है, आँसू...Vaicharik mahakumbh
Custom Text