आरंभ या अंतिम संस्कार

Read Time4Seconds
nanda pandey
कितनी सहज और स्वाभाविक
इच्छा थी तुम्हारी
माफ कर दो मुझे….
कई दिनों का ठहरा हुआ आवेग
अजीब सी बेबसी और एक कचोट
जो उमड़-धुमड़ कर पिघलने
को तैयार थी
संवेदना के इतिहास से घिरे
स्नेहसिक्त बादल आज बरस तो गए
पर बूंदें धरातल तक नहीं आई
त्रिशंकु की तरह
तुम्हारे ही अधखुले अधरों पर
लटकी रह गई….
आज तुम्हारे अपराध-बोध की
छत्रछाया में रुक कर सुस्ताना
बहुत सुखद लग रहा था मुझे,
तुम लिपटे रहे मुझसे
चंदन की सुगंध की आस में
और मैं तय करती रही
तुम्हारी प्रतीक्षा से उत्सर्ग तक कि दूरी
बाहर आज धरती के आगोश में
‘पारिजात’ भी कुछ पाने की बेचैनी
और खोने की पीड़ा से गुजर रहा था
बिल्कुल मेरी तरह…..
तुम्हारे प्रति उमड़ते प्रेम ने मेरे मन में
सावन के झोंकों का काम किया
मुझे नहीं पता
आज जो कुछ भी घटित हो रहा है
उसमें चाहत नाम मात्र है भी या नहीं
आज कितनी ही ऐसी अनगिनत बातें
रगो-रेशे के साथ
 उभरते और मिटते चले गए
शंशय और संदेह के सारे कांटे
जैसे पलट कर मुझे ही बेधने लगे
भावुकता मूर्खता का पर्याय है!
जानते हुए भी
एक बार फिर मैं,
अप्रमेय प्रेम की खोज में
सबसे सरलतम प्रमेय से छली गई
क्या !?
ये मेरा आरंभ होगा या अंतिम-संस्कार
नहीं जानती मैं…….!
नाम – नंदा पाण्डेय
वर्तमान पता  – रांची(झारखंड)
राज्य- झारखंड
शहर- रांची
शिक्षा- स्नातक
कार्यक्षेत्र- साहित्य और समाजसेवा
विधा – कविता , कहानी और हाइकु
प्रकाशन  – 10 साझा संग्रह
सम्मान – नवांकुर साहित्य सम्मान, साहित्य सारथी सम्मान 2017, युग सुरभि सम्मान 2016
 लेखन का उद्देश्य- भावों की अभिव्यक्ति
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आज विज्ञान

Mon Feb 18 , 2019
आज विज्ञान थल से आसमान छाया हुआ बेकार नहीं वैज्ञानिक तरीके सार्थक सोच आज इंसान ज्ञान बना विज्ञान वैज्ञानिक है आज विज्ञान अभिशाप भी बना वरदान भी परिचय:- अशोक कुमार ढोरिया मुबारिकपुर(हरियाणा) Post Views: 296

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।