जीवन बस इक धोखा है।

Read Time0Seconds

ajay ahsas

दुनिया की उलझन में पड़कर, सब ताने बाने बदल गये
हम तो वैसे के वैसे रहे, पर दोस्त पुराने बदल गये।
ये बात नही परिवर्तन की, ये तो सब समय का झोंका है
बस मौत ही सच्चा साथी है, ये जीवन बस इक धोखा है।।
इक सुख पाने की चाहत में , कितना सारे दुख झेल गये
सदा विजेता बनने को हम , कितनी पारी खेल गये।
सोचा सब हमको मिल जाये, पर हाथ आया बस खोखा है
बस मौत ही सच्चा साथी है, ये जीवन बस इक धोखा है।।
धन की खातिर सुबह शाम किया, काम किसी का अपने नाम किया
खुद का सम्मान बढाने को,इक दूजे का अपमान किया।
खुद अपनी नींव उठाने को, हमने कितना घर फूंका है
बस मौत ही सच्चा साथी है, ये जीवन बस इक धोखा है।।
जब हाथ मिलाया जीवन से , तो लगा कि कितना सुन्दर है
पर साथ चले तो पता चला, बस दुख ही इसके अन्दर है।
कुछ वर्ष महीनों हफ्तों का, ये जीवन बस कुछ पलों का है
बस मौत ही सच्चा साथी है, ये जीवन बस इक धोखा है।।
रोता सा जीवन देख देख, खुशियां भी खुशी से मुस्काई
खुशियां भरने को जीवन में, कुछ ने बजवाई शहनाई
हम जिसे समझते हरियाली, वास्तविकता में वो सूखा है
बस मौत ही सच्चा साथी है, ये जीवन बस इक धोखा है।।
सब कुछ करते जिसकी खातिर, वे ही हमें आंख दिखायेंगे
कुछ ऐसा हम कर जायेंगे, मरने पर ढूढें जायेंगे।
जीवन का अपने अनुभव है, “एहसास” ये बहुत अनोखा है
बस मौत ही सच्चा साथी है, ये जीवन बस इक धोखा है।।

#अजय एहसास

परिचय : देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के सुलेमपुर परसावां (जिला आम्बेडकर नगर) में अजय एहसास रहते हैं। आपका कार्यस्थल आम्बेडकर नगर ही है। निजी विद्यालय में शिक्षण कार्य के साथ हिन्दी भाषा के विकास एवं हिन्दी साहित्य के प्रति आप समर्पित हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

"आड़"

Wed Jan 16 , 2019
–वह आज राकेश को कोठी पर मैडम जी के पास लेकर जाएगी वही कुछ समझाएंगी तो ठीक रहेगा. दसवीं में फेल क्या हुआ पढ़ाई  छोड़कर बैठ गया..आवारा दोस्तों में उठ बैठकर ढीठ सा हो गया है.. सुमन खटिया पर लेटे-लेटे इसी उधेड़बुन में थी. तभी ऊंघता हुआ सोहन पास आकर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।