मैं देश नहीं रुकने दूँगा

5
Read Time0Seconds

trilok

मैं देश नहीं रुकने दूँगा,
मैं देश नहीं झुकने दूँगा।

आए जीवन में गर मुश्किल,
पर मैं मुश्किल नहीं टिकने दूँगा ।

मैं देश नहीं रुकने दूँगा,
मैं देश नहीं झुकने दूँगा।

इस तृण हरित रुधिर की भूमि पर,
कईयों ने अपना रक्त बहाया है।

हिन्दू,मुस्लिम,सिख, ईसाई,
सबने ही रुधिर गंग में नहाया है।

आतताई देशद्रोही के हाथों,
मैं यह देश नहीं बिकने दूँगा।

मैं देश नहीं रुकने दूँगा,
मैं देश नहीं झुकने दूँगा।

हे माँ शस्य श्यामला,
मैं नित नूतन चरण शीश झुकाता हूँ।

माँ तेरे मातृत्व आँचल में,
नित अपना शीश छुपाता हूँ।

गरल भरे इन शैतानों को,
मैं मिटा के राख कर दूँगा।

मैं देश नहीं रुकने दूँगा,
मैं देश नहीं झुकने दूँगा।

माँ तेरे आँचल की छाया में,
रोज बसेरा मेरा होता।

मधुरता,शीतलता और सरसता के,
दीप तुम्हारा मैं जोता ।

सुधा रस की धार को,
मैं मिटने नहीं दूँगा।

मैं देश नहीं रुकने दूँगा ,
मै देश नहीं झुकने दूँगा।

स्वच्छ चाँदनी बिछी हुई है,
धरा व अम्बर तल में ।

भीनी-भीनी खुशबू से,
भर देती हो तन-मन में।

अत्याचारी,दुराचारियों के हाथों,
मैं और कृत्य नहीं होने दूँगा।

मैं देश नहीं रुकने दूँगा,
मैं देश नहीं झुकने दूँगा।

माँ भारती,वात्सल्य और ममता से,
सबको पोषण कराती है।

यौवन,बचपन,वृद्ध अवस्था में,
अविरल सुख पान कराती है।

गर आए आँच आँचल पर,
तो मैं निज प्राण न्यौछावर कर दूँगा।

पर,

मैं देश नहीं रुकने दूँगा,
मैं देश नहीं झुकने दूँगा।।
#त्रिलोक चन्द खाण्डल

परिचय: त्रिलोक चन्द खाण्डल राजस्थान के किशनगढ़(जिला-अजमेर)में रहते हैं।

0 0

matruadmin

5 thoughts on “मैं देश नहीं रुकने दूँगा

  1. आत्मीय आभार आप सभी गुणीजनों का

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दाँत शेर के जो गिनता था

Thu Mar 23 , 2017
आजादी का स्वप्न संजोया..अपनी खुशिंयाँ भूलकर, काट बेड़ियां भारत माँ की..चला निरंतर शूल पर। राष्ट्र दुलारा,आँख का तारा,शेर..ए बब्बर सरजमीं का, भगतसिंह बलिदान हुआ था..हंस फाँसी पर झूलकर। उम्र न जिसको रोक सकी थी..बारुदों के खेलों से, दाँत शेर के जो गिनता था..मौत स्वयं अनुकूल कर। राष्ट्र प्रेम का प्रखर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।