सुरेंद्र शर्मा : चार लाइना से जनता को हास्य में डुबाने वाले का नाम

Read Time4Seconds

रश्मिरथी

सुरेंद्र शर्मा : चार लाइना से जनता को हास्य में डुबाने वाले का नाम

1982340_546192825495270_399427972_n

डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’

‘पत्नी जी!
मेरो इरादो बिल्कुल ही नेक है
तू सैकड़ा में एक है।’
वा बोली-
‘बेवकूफ मन्ना बणाओ
बाकी निन्याणबैं कूण-सी हैं
या बताओ।’

हरियाणा की नंगल चौधरी ग्राम में २९ जुलाई १९४५ के दिन जन्म लिए एक बालक की यात्रा ने हंसी की गर्जना के साथ भारत की जनता के दिलों पर अमिट छाप छोड़ते हुए पद्मश्री पुरस्कार प्राप्त किया है। हास्य कवि सुरेंद्र शर्मा विश्वख्याति के लोकप्रिय कवि हैं। लाखों-करोड़ों सुधि श्रोताओं के प्यारे कवि हिंदी की महनीय हास्य परंपरा में व्यंग बाणों से सत्ता और समकालीन राजनीती पर भी भारी रहते है।  उनके चुटीले व्यंग्य श्रोताओं के दिलो-दिमाग़ को पहले तो जगाते हैं, फिर हँसाते हैं, फिर उनसे छतफाड़ ठहाके लगवाते हैं, पर घर लौटकर सुरेंद्र शर्मा के कटाक्षों को जब वे सत्ता-व्यवस्था, संसार-व्यवहार की यातना और चरित्रहीनता से टकराते देखते हैं, तो हँसते नहीं, सोचना शुरू करते है, और मौक़ा मिलते ही उन्हें दोबारा सुनने आते हैं ! हमेशा सुनने के लिए अधीर रहते हैं।

‘चार लाइना सुना रिया हूँ’ के सूत्रधार वाचिक परंपरा के दिवाकर लगभग ५ दशकों से श्रोताओं के निज ह्रदय आसान पर विराजित हो कर हिन्दी भाषा की सेवा कर रहे है। भारतीय कवि संस्कृति में मंच पर हास्य के पर्याय माने जाने वाले सिद्ध कवि जिनकी कविताओं के दीवानों में भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्व: अटल बिहारी वाजपेजी जी भी रहे है। सहज भाव भंगिमाओं के माध्यम से स्तरीय हास्य पहुंचते हुए आदरणीय शर्मा जी ने भारतीय जनता के मन को छुआ है। आपकी तीन से अधिक पुस्तकें भी प्रकाशित हो चुकी है। काका हाथरसी पुरस्कार से पुरस्कृत सुरेंद्र शर्मा जी अब तक हजारों कवि सम्मेलनों के माध्यम से जनता को जागृत कर चुके है। देशी-विदेशी दर्शकों पर आपने ‘म्हारी घराली’ के माध्यम से पति-पत्नी संवाद काव्य की गहरी छाप अंकित कर दी है। सैकड़ों शो, हजारों सम्मान, लाखों कवि सम्मलेन, और करोड़ों दर्शक और श्रोता ही आपकी मूल्य निधि है। इसी निधि के सहारे आप हिन्दी कवि सम्मेलनों में स्वास्थ्य हास्य और तीक्ष्ण व्यंग्य शरों का संधान कर पाते है।

हिंदी संसार ने आपके गद्य संग्रह का भी भरपूर स्वागत किया और यहाँ तक कि आपके हर शब्दों में भारत की जनता ने अपने सुरेंद्र शर्मा को खोजते हुए चिर-परिचित अंदाज में हिन्दी सेवा का लाभ देखा है।

1001827_413091405472080_76705480_nपद्मश्री सुरेंद्र शर्मा
रसहास्य रस
अनुभव५० वर्ष से अधिक
निवासदिल्ली, भारत

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

क्षेत्रवाद

Tue Oct 9 , 2018
बापू की जन्मस्थली से क्षेत्रवाद का जहर उगलना दूर प्रांत के रहने वालो पर हिंसक यूं प्रहार करना नफरत और हिंसा से पीड़ित लोगो का पलायन करना गुजरात की छवि को बट्टा लगा रहा है गांधी की छवि को प्रभावित कर रहा है देश के लिए यह नफरत क्यों क्षेत्रवाद […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।