यशपाल निर्मल बदायूं (उत्तर प्रदेश) में होंगे डा. रघुवंश स्मृति सम्मान से सम्मानित

Read Time3Seconds
IMG_1512621796953
डोगरी एवं हिंदी भाषा के युवा बाल साहित्यकार,  लघुकथाकार, कथाकार, कवि, आलोचक,लेखक, अनुवादक, भाषाविद्, सांस्कृतिककर्मी एवं समाजसेवी यशपाल निर्मल को उनके साहित्यिक योगदान के लिए के. बी. साहित्य समिति (पंजी0) बदायूं, उत्तर प्रदेश की ओर से डा. रघुवंश स्मृति सम्मान से सम्मानित करने का निर्णय लिया गया है। इस बात की जानकारी संस्था के अध्यक्ष डा. सतीश चंद्र शर्मा सुधांशु ने अपनी संस्था की ओर से जारी  घोशनापत्र के माध्यम से दी। यह सम्मान समारोह 18 दिसंबर, 2018 को बिसौली जनपद बदायूं (उत्तर प्रदेश) में आयोजित किया जाएगा जिसमें देश भर के साहित्यकारों के साथ यशपाल निर्मल को भी डा. रघुवंश स्मृति सम्मान से सम्मानित किया जाएगा । गौरतलब है कि यशपाल निर्मल का जन्म 15 अप्रैल 1977 को जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती क्षेत्र छंब ज्यौड़ियां के गांव गढ़ी बिशना में श्रीमती कांता देवी और श्री चमन लाल  के घर पर हुआ।
       आपने जम्मू विश्वविद्यालय से डोगरी भाषा में स्नातकोतर एवं एम.फिल. की उपाधियां प्राप्त की। आपने वर्ष 2005 में जम्मू विश्वविद्यालय से डोगरी भाषा में स्लेट एवं वर्ष 2006 में डोगरी भाषा में यू.जी.सी. की नेट परीक्षा उतीर्ण की । आपको डोगरी,हिन्दी,पंजाबी, उर्दू एवं अंग्रेज़ी भाषाओं का ज्ञान है। आप कई भाषाओं में अनुवाद कार्य कर रहें है। आपने सन् 1996 में एक प्राईवेट स्कूल टीचर के रूप में अपने व्यवसायिक जीवन की शुरुआत की। उसके उपरांत “दैनिक जागरण”, “अमर उजाला” एवं “विदर्भ चंडिका” जैसे समाचार पत्रों के साथ बतौर संवाददाता कार्य किया। वर्ष 2007 में आप नार्दन रीजनल लैंग्वेज सैंटर ,पंजाबी यूनिवर्सिटी कैंपस,पटियाला में डोगरी भाषा एवं भाषा विज्ञान के शिक्षण हेतु अतिथि ब्याख्याता नियुक्त हुए और तीन वर्षों तक अध्यापन के उपरांत दिसंबर 2009  में जम्मू कश्मीर कला,संस्कृति एवं भाषा अकैडमी में शोध सहायक के पद पर नियुक्त हुए और  जून 2017 में पदोन्नत होकर सहायक संपादक पद पर नियुक्त हुए।
          आपने लेखन की शुरुआत वर्ष 1994 में की और सन 1995 में श्रीमद्भागवत पुराण का डोगरी भाषा में अनुवाद  किया।  सन् 1996 में आपका पहला डोगरी कविता संग्रह  अनमोल जिंदड़ी प्रकाशित हुआ।
         अब तक हिन्दी , डोगरी एवं अंग्रेजी भाषाओं में विभिन्न विषयों पर आपकी 30  पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। आपके अनुवाद कार्य, साहित्य सृजन ,समाज सेवा,पत्रकारिता और सांस्कृतिक क्षेत्रों  में अतुल्नीय योगदान हेतु आपको कई मान सम्मान एवं पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं जिनमें  नाटक मियां डीडो  पर वर्ष 2014 का साहित्य अकादेमी, नई दिल्ली का राष्ट्रीय अनुवाद पुरस्कार,  पत्रकारिता भारती पुरस्कार(2004), जम्मू कश्मीर रत्न सम्मान (2010), डुग्गर प्रदेश युवा संगठन सम्मान (2011), लीला देवी स्मृति सम्मान(2012), महाराजा रणबीर सिंह सम्मान(2013), राष्ट्रीय अनुवाद साहित्य गौरव सम्मान (निर्मला स्मृति साहित्यक समिति, चरखी दादरी एवं भारतीय अनुवाद परिषद, दिल्ली, 2017), डोगरी बाल उपन्यास की पाण्डुलिपि को गुगनराम एजुकेशनल एण्ड सोशल वैलफेयर सोसयटी की ओर से वर्ष 2018 का बाल साहित्य पुरस्कार, समग्र साहित्यिक योगदान के लिए हिमालय और हिन्दुस्तान की सिल्वर जुवली के अवसर पर साहित्य सेवी सम्मान 2018, केन्द्रीय हिन्दी संस्थान, आगरा और संस्कार भारती की ओर से 4-5 फरवरी 2018 कोआयोजित दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय साहित्यिक सम्मेलन में डा.  बी. आर. अंबेडकर विश्वविद्यालय के पूर्व  कुलपति डा. गिरीश चंद्र सक्सेना के कर कमलों से सम्मानित, सर्व भाषा ट्रस्ट की ओर से  सर्व भाषा सम्मान 2018 और तथागत अंतरराष्ट्रीय साहित्यिक सम्मान 2018 प्रमुख हैं।
          आपकी  चर्चित पुस्तकों में अनमोल जिंदड़ी (डोगरी कविता संग्रह, 1996), पैहली गैं ( कविता संकलन संपादन,2002), लोक धारा ( लोकवार्ता पर शोध कार्य,2007), आओ डोगरी सिखचै( Dogri Script, Phonetics and Vocabulary,2008), बस तूं गै तूं ऐं (डोगरी कविता संग्रह,2008), डोगरी व्याकरण(2009), Dogri Phonetic Reader (2010), मियां डीडो (अनुवाद,नाटक,2011), डोगरी भाषा ते व्याकरण (2011), पिण्डी दर्शन (हिन्दी,2012), देवी पूजा विधि विधान: समाज सांस्कृतिक अध्ययन ( अनुवाद, 2013), बाहगे आहली लकीर ( अनुवाद, संस्मरण 2014), सुधीश पचौरी ने आक्खेआ हा ( अनुवाद, कहानी संग्रह,2015), दस लेख (लेख संग्रह ,2015), मनुखता दे पैहरेदार लाला जगत नारायण ( अनुवाद , जीवनी,2015), घड़ी ( अनुवाद, लम्बी कविता, 2015), समाज-भाशाविज्ञान ते डोगरी (2015), साहित्य मंथन ( हिन्दी आलोचना, 2016), शोध ते परचोल (डोगरी आलोचना, 2016), डोगरी व्याकरण ते संवाद कौशल (2016), भारती इतेहास दा अध्ययन :इक परीचे (डी.डी. कोसंबी की मूल अंग्रेजी पुस्तक का डोगरी में अनुवाद,2017), साहित्य मंथन (हिन्दी शोध लेख, 2017), असली वारिस ( राज राही के डोगरी कहानी संग्रह का हिंदी अनुवाद 2018), छुट्टियां ( बाल उपन्यास, 2018) प्रमुख हैं। इसके इलावा आपके हजारों लेख, शोध पत्र, कहानियां, लघु कथाएं एवं कविताएँ समय समय पर राज्य, राष्ट्र एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर की पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं।
     आपने कई राष्ट्रीय स्तर की कार्यशालाओं, संगोष्ठिओं, सम्मेलनों, कवि सभाओं एवं साहित्यक कार्यक्रमों में प्रभावपूर्ण भागीदारिता की है। आप कई साहित्यक पत्रिकाओं में बतौर सम्मानित संपादक कार्यरत हैं जिनमें अमर सेतु (हिन्दी), डोगरी अनुसंधान, (डोगरी), सोच साधना (डोगरी), परख पड़ताल (डोगरी) प्रमुख हैं।
     आपको कई साहित्यक, सांस्कृतिक एवं समाजिक संस्थाओं ने समय समय पर सम्मानित किया है जिनमें  राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, राष्ट्रीय कवि संगम, डुग्गर मंच, डोगरी भाषा अकैडमी, डोगरी कला मंच, तपस्या कला संगम, त्रिवेणी कला कुंज, हिंद समाचार पत्र समूह, जम्मू कश्मीर अकैडमी आफ आर्ट , कल्चर एंड लैंग्वेजिज आदि प्रमुख हैं।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

तेरा ख्याल

Thu Oct 4 , 2018
तेरे ख्यालों के आबोदाने में अक्सर हमें सिमटना नहीं आता हवाओं की साजिश को आखिर बता दिया हमे बिखरना नही आता गुफ्तगू की नुमाइंदगी में ख़ामोश बैठा हूँ भोली चिड़िया सा रेत की दर्दे दीवार हूँ बस जाकर कह दो फिसलना नहीं आता हवाओं में लिपटा हुआ तिनका हूँ इस […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।