कश्मीर के हालात………..

1
2 0
Read Time3 Minute, 2 Second
atul sharma
मोदी और महबूबा की,
 टूटनी एक दिन कमान थी,
धधकती मोदी के दिल में,
देश की आन बान शान थी।
जब राष्ट्रप्रेम में थोड़ी भी,
जलने की गंध आती हो,
बुनियाद  खोखली करने को,
दीमक जब लग जाती हो।
मोदी जी का माथा ठनका,
तोड़ दिया जो गठबंधन था,
मुक्ति पाकर मुफ्ती से,
सियासत का तोड़ा बंधन था।
आतंक पला घाटी में खूब,
 और जिया गठजोड़ निराशा में,
 पिलाते रहे नागों को दूध,
शांति की प्यारी आशा में।
खाते रहे मार पत्थरों की,
जो सैनिक हिम्मत वाले हैं,
सुनो सैनिकों की चीखों को,
भारत के जो रखवाले हैं।
बांधे हैं सैनिक आदेशों से,
बरना किया सफाया होता,
इस आतंकी धरती में ही,
पत्थरबाजों को दफनाया होता।
फिर आतंकी भी अनचाहे में,
भक्त राष्ट्र के बन जाते,
तिरंगे को करते प्रणाम,
और राष्ट्रगान की धुन गाते।
निर्भय होकर निर्णय लो मोदी जी,
अब विरोधियों की क्यों फेरी  हैं?
पत्थरबाजों को सबक सिखाने में,
इतनी अब क्यों देरी  हैं?
आजाद करो सेना के हाथों को,
समय की यह मजबूरी है,
 काश्मीर की किस्मत को,
चमकाना आज जरूरी है।
कुचलोऔर बढ़ते जाओ,
जिधर पत्थरों की झोली हो,
भारत मां की जयकारों पर,
 जिधर बरसती गोली हो।
एडी से रगड़ो मुँह उसका,
जो भारत से नफरत करता हो,
भारत को घायल करने की,
जो गंदी हरकत करता हो।

#अतुल कुमार शर्मा

परिचय:अतुल कुमार शर्मा की जन्मतिथि-१४ सितम्बर १९८२ और जन्म स्थान-सम्भल(उत्तरप्रदेश)हैl आपका वर्तमान निवास सम्भल शहर के शिवाजी चौक में हैl आपने ३ विषयों में एम.ए.(अंग्रेजी,शिक्षाशास्त्र,समाजशास्त्र)किया हैl साथ ही बी.एड.,विशिष्ट बी.टी.सी. और आई.जी.डी.की शिक्षा भी ली हैl निजी शाला(भवानीपुर) में आप प्रभारी प्रधानाध्यापक के रूप में कार्यरत हैंl सामाजिक क्षेत्र में एक संस्था में कोषाध्यक्ष हैं।आपको कविता लिखने का शौक हैl कई पत्रिकाओं में आपकी कविताओं को स्थान दिया गया है। एक समाचार-पत्र द्वारा आपको सम्मानित भी किया गया है। उपलब्धि यही है कि,मासिक पत्रिकाओं में निरंतर लेखन प्रकाशित होता रहता हैl आपके लेखन का उद्देश्य-सामाजिक बुराइयों को उजागर करना हैl 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

One thought on “कश्मीर के हालात………..

  1. देश के दुखद हालातों पर लिखी थी, परेशान होकर यह कविता। आप सबका प्यार पाकर मेरा उत्साहवर्धन हुआ , और लाईक देने के लिए सभी पाठकों का आभार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जीवन क्या है 

Mon Jun 25 , 2018
कुछ दिन की जिंदगानी, एक दिन सब को जाना / वर्षो की क्यों तू सोचे, पल का नहीं ठिकाना / कुछ दिन की जिंदगानी। ….. ..२ / मल मल के तूने अपने तन को जो है निखार / इत्रों की खुशबूओं से महके शरीर सारा …..२ / काया न साथ […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।