बकलौली की बूंदी राहत के रसगुल्ले जुमलों की जलेबी आश्वासनों के गुलाब जामुन तृप्त हो गई जनता अब बस भी करो भले मानुष बचपन में भूखे पेट बहुत सुनी राजा – महाराजा की कहानियाँ ठंड से ठिठुरता शरीर बातों में रजाइयां #तारकेश कुमार ओझा लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते […]

संकल्प, इच्छाशक्ति की राशि विशाल दुनिया ने एकता के हिंद की, देखा मिसाल दुनिया ने विश्वास की परिधि ने हर मन को था घेरा हुआ लग रहा था रात में कि, जैसे सवेरा हुआ था हर तरफ प्रकाशमान दीप इतने जल उठे बंद सारी बत्तियां थीं पर न अंधेरा हुआ […]

कभी जो बीती हो दिल पर भुला कैसे दिया जाए किसी की याद आए तो कहो कैसे जिया जाए कैसे गम की आंधी में ईमारत हो खड़ी दिल की कैसे टूटकर के फिर जुडे़ वो हर कड़ी दिल की कैसे होंठों पर मुस्कान लाए दिल भला बोलो कैसे जान में […]

तारकेश कुमार ओझा बंबई के मुंबई बनने के रास्ते शायद इतने जटिल और घुमावदार नहीं होंगे जितनी मुश्किल मेरी दूसरी मुंबई यात्रा रही ….महज 11 साल का था जब पिताजी की अंगुली पकड़ कर एक दिन अचानक बंबई पहुंच गया …विशाल बंबई की गोद में पहुंच कर मैं हैरान था […]

मौत से लड़ना क्या , मौत तो एक बहाना है, जिन्दगी के पन्नों में, कब क्या हो जाए, ये न तो मै जानता न तुम, उल्फत न मिलती , जिवन के रुसवाईयो मे, हर जहा हमे पता होता , जिवन के रह्नुमाईयो मे, मौत से मुड़ना क्या, आरजू , गुस्त्जू […]

बसंत ऋतु आए, सुवासित वातावरण लाए! ऋतु शिरोमणि के रूप में, ऋतुराज कहलाएँ!! शरद ऋतु की कंपन से, भीषण ठंड दूर करे ! सृष्टि में नवीनता से, ऋतु बसंत प्रतिनिधि हो !! न विशेष गर्मी है, और न ही ठंड है बसंत ! बच्चे, बूढ़े, युवक – युवतियां, सभी के […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।