माननीयों का `अबाधित` महाभारत …!!

0 0
Read Time5 Minute, 42 Second

tarkesh ojha

 फिल्मी `दंगल` के कोलाहल से काफी पहले बचपन में सचमुच के अनेक दंगल देखे। क्या दिलचस्प नजारा होता था। नागपंचमी या जन्माष्टमी जैसे त्योहारों पर मैदान में गाजे-बाजे के बीच झुंड में पहलवान घूम-घूमकर अपना जोड़ खोजते थे। किसी ने चुनौती दी तो हाथ मिलाकर हंसते-हंसते चुनौती स्वीकार किया। फिर मैदान में जानलेवा जोर-आजमाइश देखकर बाल मन आतंकित हो उठता। सोचता… इतने हट्टे-कट्टे पहलवान हैं। अभी हाथ मिला रहे हैं,जब मैदान में उतरेंगे तो पता नहीं क्या होगा। सांस रोककर चली प्रतीक्षा के बाद दोनों पहलवान मैदान में उतरे और खूब जोर- आजमाइश की। परिणाम आने के बाद दोनों हाथ मिलाकर हंसते हुए अपने-अपने खेमे में चले गए। यह बड़ा रोचक लगता था कि,जिससे लड़े-भिड़े उसी से हाथ मिलाकर अपने- अपने रास्ते हो लिए। किशोरावस्था तक पहुंचते-पहुंचते असली दंगल से लोगों को मोहभंग होने लगा और सभी का झुकाव कुश्ती जैसे देशी खेल के बजाय क्रिकेट में ज्यादा होने लगा। अलबत्ता इसके स्थान पर चुनावी दंगल बड़ा दिलचस्प नजारा पेश करने लगा। गांव जाने पर पंचायत तो अपने शहर में नगर पालिका की सभासदी का चुनाव मुझे सबसे ज्यादा रोचक लगता था,क्योंकि इसमें भाग्य आजमाने वाले अपने ही आस-पास के होते थे। बिल्कुल दंगल वाली शैली में । पहले एक उम्मीदवार ने दूसरे को चुनौती दी। हाथ में माइक थामा तो खूब लानत-मलानत की,लेकिन मुठभेड़ हो गई तो मुस्कुराते हुए गले मिले। ऐसे दृश्य मुझमें गहरे तक आश्चर्य और कौतूहल पैदा करते थे,क्योंकि मुझे लगता था जिसे भला -बुरा कहा,उसे गले लगाना या जिसे गले लगाया,वक्त आने पर उसे भला-बुरा कहना आसान काम नहीं। यह मजबूत कलेजे वाले ही कर सकते हैं। ऐसे दृश्य देखकर मुझे धारावाहिक `महाभारत` की याद ताजा हो उठती,क्योंकि उस `महाभारत` में भी तो यही होता था। टीवी के परदे पर हम सांस रोककर कौरव-पांडवों के बीच भीषण युद्ध देख रहे हैं। फिर अचानक नजर आ रहा है कि युद्ध रुक गया है। दोनों पक्ष कहीं आमने-सामने हुए तो आपस में प्रणाम भ्राता श्री,प्रणाम मामा श्री भी कह रहे हैं। यह देखकर मैं सोच में पड़ जाता था कि,सचमुच कितना दिलचस्प है कि जिससे लड़ रहे हैं उसी के प्रति सौजन्यता भी दिखा रहे हैं। खैर महाभारत का महाभारत तो समय के साथ समाप्त हो गया,लेकिन अब माननीयों का महाभारत तेज गति से आस-पास चल ही रहा है। अभी दीपावली पर टेलीविजन पर नजरें गड़ाए रहने के दौरान एक बड़े राजनीतिक घराने की दीवाली पर नजर पड़ी,जिसमें चाचा-भतीजा समेत समूचा कुनबा हंसी-खुशी दीवाली मना रहा है। चेहरों की भाव भंगिमा देख भला कौन कह सकता है कि,इनके बीच एक दिन पहले तक उखाड़-पछाड़़ चल रही थी। माननीयों का महाभारत ऐसा ही है। एक पार्टी में रहकर लगातार पार्टी विरोधी हरकतें कर रहे हैं,लेकिन पूछिए तो जवाब मिलेगा वे संगठन के अनुशासित सिपाही हैं और हमेशा रहेंगे। `भैयाजी` के तेवर से समर्थक उल्लासित हैं कि अब तो जनाब नई पार्टी की खिचड़ी पकाकर रहेंगे जिसमें से कुछ दाने उनकी ओर भी गिरेंगे। तभी जनाब ने यह कहते हुए पलटी मार दी कि,उनका नई पार्टी बनाने का कोई इरादा नहीं है। आखिरकार एक दिन श्रीमानजी पार्टी से निकाल दिए गए…। नई पार्टी या फिर किसी दूसरी में जाने का रास्ता साफ हो गया,लेकिन अॉन कैमरा बार-बार यही कह रहे हैं कि उनका नई पार्टी बनाने या किसी दूसरे दल में जाने का कोई इरादा नहीं है। हाईकमान का फैसला चाहे जो हो,लेकिन वे पार्टी के अनुशासित सिपाही बने रहेंगे। सचमुच जो कहे वो करे नहीं और जो करे वो दिखे नहीं…ऐसा करिश्मा कर पाने वाले कोई मामूली आदमी नहीं कही जा सकते। अस्सी के दशक का बहुचर्चित धारावाहिक महाभारत तो इतिहास बन गया,लेकिन हमारे माननीयों का महाभारत अबाधित गति से चलता ही रहेगा। 

                                                                 #तारकेश कुमार ओझा

लेखक पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में रहते हैं और वरिष्ठ पत्रकार हैं | तारकेश कुमार ओझा का निवास  भगवानपुर(खड़गपुर,जिला पश्चिम मेदिनीपुर) में है |

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जन की कौन देख रहा

Sat Oct 28 , 2017
कौन तड़प रहा है,इस समर भारत देश में, क्या किया तुमने त्रिकुणी टोपी सफेद वेश मेंl  भाषण में तुम जोश लिए,भाषण राग सुनाते हो, सुखी वादे कर हड्डियों को भी तुम सोख जाते हो। सकल देश का क्या तुमने हाल कभी भी देखा है, भाषण में तो तुमने नवनिर्मित विधान […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।