लघुकथा- पहली सैलरी

0 0
Read Time4 Minute, 49 Second

नयी कंपनी खुली थी। सारे कर्मचारी अलग-अलग प्रदेशों के थे। आज सभी के बैंक खाते में पहला वेतन जमा होने वाला था। दोपहर में कुछ कर्मचारी साथ में बैठे चाय पी रहे थे। तभी उनमें से एक ने, जिसका नाम प्रखर था, चाय की चुस्की लेते हुए कहा – ‘यार, मैं तो अपनी पहली सैलरी अपने माता-पिता को दूँगा। उन्होंने मेरी पढ़ाई बड़ी परेशानियाँ उठाकर पूरी करवाई है।’
रितिक को छोड़कर सभी ने एक स्वर में कहा- ‘हम भी अपने माता-पिता को देंगे।’
प्रखर ने गुमसुम बैठे रितिक से पूछा – ‘यार! तू बता, पहली सैलरी क्या तू भी अपने माता-पिता को देगा ?’
‘देता, लेकिन…’, रितिक ने उदास स्वर में कहा।
‘लेकिन क्या ?’
रितिक ने भरे गले से बताया – ‘मैं अनाथ हूँ।’

राम मूरत ‘राही’

इन्दौर, मध्य प्रदेश

परिचय

  • लेखन के क्षेत्र में : 1980 से सतत् बाल कहानियाँ, पत्र लेखन, गज़लें, कविताएँ, लघुकथाएँ, व्यंग्य, समीक्षा एवं संस्मरण लेखन में सक्रिय।
  • प्रकाशन : देश- विदेश के प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में एवं अनेक लघुकथा एवं काव्य संकलन में साझेदारी।
  • प्रकाशित कृतियाँ : ‘अंतहीन रिश्ते’ (लघुकथा संग्रह, 2019) ‘भूख से भरा पेट’ (लघुकथा संग्रह, 2021) ‘इंजेक्शन’ (लघुकथा संग्रह, 2022) ‘तेरे शहर में’ (ग़ज़ल संग्रह – 2022)
  • सम्पादन : ‘अनाथ जीवन का दर्द’ लघुकथा संकलन (2021)
  • अनुवाद : अनेक लघुकथाएँ अंग्रेजी, पंजाबी, उड़िया, गुजराती, नेपाली, बांग्ला, मराठी, उर्दू , मलयालम भाषाओं तथा मालवी ,गढ़वाली (बोली) में अनूदित।
  • विशेष : लघुकथा ‘स्वाभिमानी’, ‘इंसान नहीं’ एवं ‘मेरा तीर्थ’ पर लघु फिल्म निर्मित। लघुकथा ‘अनोखा जवाब’ एवं ‘चौथी मीटिंग’ यू ट्यूब पर प्रसारित। लघुकथा ‘माँ के लिए’ एवं ‘मेरा तीर्थ’ का नेपाली भाषा में अभिनयात्मक वाचन।
  • सम्मान/पुरस्कार : भोपाल दूरदर्शन द्वारा प्रसारित कार्यक्रम ‘भवदीय’ (1997) में ‘रंग बिरंगा मौसम आया’ कविता के लिए प्रशंसा प्रमाण पत्र। अखिल भारतीय माँ शकुंतला कपूर स्मृति लघुकथा प्रतियोगिता – 2018-19 फरीदाबाद (हरियाणा) का ‘श्रेष्ठ लघुकथा’ का पुरस्कार। क्षितिज साहित्य मंच, इन्दौर द्वारा 2019 में ‘लघुकथा विशेष उपलब्धि सम्मान’। ‘सामाजिक आक्रोश’ समाचार पत्र, सहारनपुर (उ.प्र.) द्वारा आयोजित अ.भा.लघुकथा प्रतियोगिता में दो बार पुरस्कृत। कथादेश अ.भा. लघुकथा प्रतियोगिता -12 (नई दिल्ली) में पुरस्कृत। विश्व हिन्दी रचनाकार मंच, दिल्ली व्दारा ‘अटल हिन्दी सम्मान’ 2020। साहित्य संवेद ग़ज़ल प्रतियोगिता – 2020 में पुरस्कृत। डॉ.एस.एन. तिवारी स्मृति साहित्य सम्मान-2020। कहानीकार स्व.कमलचन्द वर्मा की स्मृति में ‘मालव मयूर’ सम्मान-2021। सरल काव्यांजलि साहित्यिक संस्था उज्जैन (म.प्र.) द्वारा ‘साहित्य सम्मान-2021’, भाषा सखी संस्था, इन्दौर द्वारा ‘साहित्य भूषण सम्मान -2021। ‘अहा! जिंदगी’ पत्रिका (दैनिक भास्कर) में लघुकथाएँ तीन बार पुरस्कृत। लघुकथा संग्रह ‘भूख से भरा पेट’ को क्रमश: लघुकथा शोध केन्द्र भोपाल द्वारा ‘लघुकथा श्री सम्मान’- 2022 एवं जयपुर साहित्य संगीति द्वारा ‘ उत्तम कृति सम्मान’ -2022।
  • संप्रति : म.प्र.पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी से स्वैच्छिक सेवानिवृत्त के पश्चात स्वतंत्र लेखन मे सलग्न।
  • पता : 168 – बी, सूर्यदेव नगर,
    इन्दौर – 452009 (म.प्र.)

matruadmin

Next Post

लघुकथा- प्रवाह

Sat Jan 21 , 2023
रफ्तार तेज नहीं थी बाइक की। धीमी रफ्तार से ही आॅफिस से घर लौट रहा था मैं। तभी अचानक वह बाइक के सामने से गुजरी। एक पल लगा – आ ही गयी पहिए के नीचे। पूरी ताकत से मैंने बाइक को ब्रेक लगाया। वह तो बच गई पर मैं गिर […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।