मां शबरी चालीसा

0 0
Read Time3 Minute, 48 Second

भक्ति शिरोमणि मातु है,शबरी सुंदर नाम।
रामनाम सुमिरन किया,पाया बैकुंठ धाम।।

सीधी साधी भोली भाली।
दंडक वन में रहने वाली।।1
सबर भील की राजकुमारी।
करुणा क्षमा शीलाचारी।।2
बेटी श्रमणा सबकी प्यारी।
सुंदर रूपा बढ़ व्यवहारी।।3
बीता बचपन भइ तरुणाई।
समय देख कर भई सगाई।।4
फिर पिता ने ब्याह रचाये।
जाति भाई सभी बुलाये।।5
मंडप बंदन खूब सजाये।
बेलें बूटे फूल लगाए।।6
नगर गांव में बजी बधाई।
नाचे गावे लोग लुगाई।।7
समझ पाए बरात बुलाई।
बूढ़े बालक सबमिल आई।।8
भोज रसोई मेढा़ लाई।
दृष्य देख शबरी घबराई।।9
करुणा से आंखे भर आई।
उपाय कोई समझ न पाई।।10
सौ जीवों की जान बचायें।
कोई बात सुझा ना पाये।।11
मंडप छोड़ा शबरी भागी।
प्रभु की भक्ती मन में लागी।12
गुरु मतंग के आश्रम आई।
चरण छुए फिर आशीष पाई।।13
श्रृद्धा भक्ति गुरु ने जानी।
बेटी जैसी निर्मल मानी।।14
अंत समय सुर लोक सिधारे।
बोले बेटी राम सहारे।।15
नियमधरम का पालन करना।
राम नाम को रोज सुमरना।16
दस हजार बरस तप कीना।
तरुणा तन अब वृद्धा दीना।।17
मगन होय नित प्रभु को ध्याती।
राम राम कह भजन सुनाती।।18
कोयल तोता कागा आते।
दाना पानी सभी यहां पाते।।19
हिरणों की भी जोड़ी आती।
घांस पात खा रोब दिखाती।।20
शेर नेवले सांप दिखाते।
कोई किसी को नही सताते।।21
जंगल में भी मंगल देखा।
ऐसा मेला संत विशेषा।।22
रोज राह पर फूल बिछाती।
कांकर पाथर दूर हटाती।।23
श्याम केश सब भये सफेदा।
सिकुड़ी चामा जीवन शेषा।।24
देखत देखत नैन गंवाई।
गुरु की बात नहीं भुलाई।।25
हुआ राम को जब वनवासा।
संतसमागम दुखिया आशा‌।26
राम लखन जब भटकत आये।
शबरी के आश्रम में धाये।।27
कोई इसका भेद न पाये।
पलक पांवड़े आन बिछाये।।28
रामलखन को आवत देखा।
खोया आपा भूली वेशा।।29
दौड़ी दौड़ी प्रभु ढिंग आई।
चरणो में गिर आशिष पाई।।30
दोनों हाथों राम उठाया।
माता कह के गले लगाया।।31
बहुत देर तक भूली देहा।
जैसे मिथिला होत विदेहा।।32
राम लखन को कुटिया लाई।
प्रेम भाव से दिया बिठाई।।33
गुरु मतंग की बात बताई।
जय जय जय मेरे रघुराई।।34
श्रद्धा भाव से बैर खिलाती।
खाटे चाखे दूर हटाती।।35
बड़े प्रेम से रामहि खाये।
नभ से देव सुमन बरसाये।।36
लछमन भेद समझ नहिं पाये।
वहीं बैर संजीवन आये।।37
नवधा भक्ति राम सिखाई।
शबरी अपने धाम पठाई।।38
जय जय जय हे शबरी माई।
सारा जग मां करत बड़ाई।।39
मंदिर एक बना है भारी।
दर्शन करते भगत हजारी।।40

फागुन कृष्ण द्वितिया तिथि,होता मंगलाचार।
अंतकाल सुधारी के,भव से होती पार।।

डॉ दशरथ मसानिया
आगर मालवा म प्र

matruadmin

Next Post

याद जिंदा रहनी चाहिए

Tue Jun 8 , 2021
मेरी आँखों में क्यों तुम आँसू बनकर आ जाते हो। और अपनी याद मुझे आँखों से करवाते हो। मेरे गमो को आँसुओं के द्वारा निकलवा देते हो। और खुशी की लहर का अहसास करवा देते हो।। मुझे गमो में रहने और उनमें जीने की आदत है। पर हँसते हुए लोगों […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।