कलम का कमाल

1 0
Read Time50 Second

लिखता मैं आ रहा हूँ
गीत मिलन के।
रुकती नहीं कलम मेरी
लिखने को नए गीत ।
क्या क्या मैं लिख चुका
मुझको ही नहीं पता।
कब तक लिखना है,
ये भी नहीं पता।
लिखता में आ रहा…..।।

कभी लिखा श्रृंगार पर,
कभी लिखा इतिहास पर ।
और कभी लिख दिया,
आधुनिक समाज पर ।
फिरभी सुधार नहीं आया
लोगों की सोच में ।।
लिखता में आ रहा…।।

लिखते लिखते थक गया
सोच बदलने वाली बातें ।
फिर नहीं बदल पाया
मैं विचार लोगों के।
इसे ज्यादा और क्या
कर सकता है रचनाकार।।
लिखता हूँ सही बातें,
मैं अपने गीतों में…
मैं अपने गीतों में……।।

जय जिनेन्द्र देव
संजय जैन(मुम्बई)

matruadmin

Next Post

आओ अपना नववर्ष मनाएं

Mon Apr 12 , 2021
आओ हम सब मिलकर अपना नववर्ष मनाएं। घर घर हम सब मिलकर नई बंदनवार लगाए। करे संचारित नई उमंग घर घर सब हम, फहराए धर्म पताका अपने घर घर हम। करे बहिष्कार पाश्चातय सभ्यता का हम, अपनी सभ्यता को आज से अपनाए हम। आओ सब मिलकर नववर्ष का दीप जलाए […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।