सशक्त है बदलाव में

0 0
Read Time1 Minute, 6 Second

सशक्त है बदलाव में
धरा का दर्द ज्ञात नहीं
जुड़ाव संस्कृति से था जो
वो हमे अब भाता नहीं
बदलाव सिर्फ बदलाव
अच्छे से बुरे की ओर जा रहे ओर मान रहे बदलाव
इस बदलाव ने धरा का छीन लिया मान
दर्द सिर्फ धरा का नहीं
शीन हो गए सभी रिश्ते नाते हो या इंसान
साँसों को भारी पड़ रहा बदलाव
पेड़ों को काट कंक्रीट की बस्तिया बसा रहे
अब तंग गलियारों में सांसो को ढूंढ़ते नज़र आ रहे
बदलाव कैसा है ये बदलाव
जिस सभ्यता से थे जुड़े
उसको खो कर
आज फिर ढूंढ़ते नज़र आ रहे
ये सभ्यता का प्रेम नहीं
प्रेम है सांसो का
जिनको हम खोते जा रहे
धरा को कर आहत हम सब कुछ खो चुके
अंधकार को मान जीवन
आगे बढ़ते जा रहे
बदलाव ये बदलाव
कैसा ये बदलाव ?

#शालिनी जैन

matruadmin

Next Post

सच्चा

Sun Nov 17 , 2019
स्वर्ग यही,नरक यही जो सोच लो वही सही अच्छा सोचोगे अच्छा होगा बुरा सोचोगे बुरा होगा चाहते हो अगर अच्छा हो मन भी हमारा सच्चा हो हम सच ही सच अपनाये स्वयं सचमय ही हो जाए एक तू सच्चा तेरा नाम सच्चा स्वयं को समझ परमात्म बच्चा झूठ स्वतः मिट […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।