काव्य गोष्ठी प्रेरणा परिवार

0 0
Read Time2 Minute, 32 Second

हिसार.नवोदित लेखकों को मंच प्रदान कराने के उद्देश्य से पिछले बीस साल से चलाए जा रहे मासिक काव्य गोष्ठी कार्यक्रम के अन्तर्गत नगर की प्रमुख साहित्यिक एवं सामाजिक संस्था प्रेरणा परिवार की अक्टूबर माह की मासिक काव्य गोष्ठी स्थानीय टाऊन पार्क मे संस्था निदेशक शुभकरण गौड़ की अध्यक्षता मे आयोजित की । बतौर मुख्यातिथि दक्षिणी हरियाणा बिजली वितरण निगम से सेवानिवृत्त अधीक्षक अभियंता सतपाल शर्मा रहे,जबकि कुशल मन्च संचालन पी पी शर्मा ने किया ।
भीमसिहं हुड्डा ने अपनी रचना यूं सुनाई..
मोर नृत्य और पीहू पीहू करना,
ऐसा मोहक नजारा है तुम्हारी कविता में
मेरी में नहीं।
ऋषि कुमार सक्सेना के भाव देखिए
देर रात तक जागता रहा, फिर एक ख्याल आया,
कुछ सोचा फिर लिखा,बस! भूखे के लिए यही कर पाया।
संस्था निदेशक शुभकरण गौड़ की रचना एक बानगी देखिए,
हमने देश को पाला है, और तुमने देश को संभाला है।
नेताओं को देखो जिनका दिल भी काला है,धन भी काला है।।
पी पी शर्मा की कविता एक बानगी देखिए,
समय पुराना हो जाता है,प्रिय बेगाना हो जाता है।
जिसको सदा गले से लगाया, वो अफसाना हो जाता है।
रमेश दूहन की कविता मां के कुछ अंश ऐसे थे,
गांधी जैसी सादगी, गांधी जैसा काम,
लाल बहादुर शास्त्री का था उनका नाम।
एक दिन जन्म दिन था एक जन्म स्थान
देश के लिए बने थे दोनों ये एक समान।।
संजय सागर की ग़ज़ल का बन्द देखीए,
मुख्यातिथि सतपाल शर्मा ने अपनी रचना ये थी,
संगीनों के साए में अमन की आस है,
अमन का नहीं पता पर इरादा तो साफ़ है।
इस अवसर पर कृष्ण कुमार इंदौरा, सरफराज खान, राजकुमार शर्मा ने भी अपनी कविता सुनाई।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

व्यसनमुक्त उत्तराखंड बनाने के अभियान की शुरुआत की ब्रह्मकुमारीज ने

Mon Oct 7 , 2019
देहरादून । प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के मुख्य सेवाकेंद्र, सुभाष नगर, देह्रारदून में “मेरा उत्तराखंड, व्यसन मुक्त उत्तराखंड” अभियान का शुभारम्भ कार्यक्रम आयोजियत किया गया । बी.के. डॉ. बनारसी लाल शाह (सेक्रेटरी मेडिकल विंग, ब्रह्माकुमारीज़, मुख्यालय – माउंट आबू) ने कहा कि व्यसन के आदी होने का मुख्य […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।