जंगल उजड़

Read Time2Seconds
mrudula shukla
1- मंगल होते थे कभी जंगलों में नित-नित,
धरा बंजर हुई जंगल उजड़ गए।
पक्षियों के कलरव  कोयल की कुहू-कुहू,
चीड़, सागौन कटे घोसले उजड़ गए।।
पानी के बिना ही सारी सृष्टि का संकट बढ़ा,
चन्द पैसों के लिए प्राणी ही उजड़ गए।
शूल स्वयं बोते नर लालच में पड़कर,
वन उजड़े खग-मृग भी उजड़ गए।।
2–वृक्ष न रहे धरा पे जग न रहेगा यह,
पशु,पक्षी,प्राणियों का अन्त ही आ जायेगा।
अन्न,फल,फूल,छाया कुछ न रहेगा शेष,
सूरज का अति कोप जग में आ जायेगा।।
जन-जन पूर्ण करे निज कर्तव्य सदा,
वृक्षों की लगें कतार जीवन आ जायेगा।
बाग-बगीचों में खूब हरियाली लहराए,
कटते रहे जो वृक्ष भूचाल आ जायेगा।।
3–फल,फूल,मेवे के हैं भण्डार भरे ये वृक्ष,
नित्य प्रदूषण हर शुद्ध वायु देते हैं।
स्वयं नहीं खाते यह पर उपकारी वृक्ष,
छाया, पत्र, पुष्प, फल दान कर देते हैं।।
इनके ही कारण हैं नभ में सुहाते मेघ,
वर्षा सुहानी लाकर हरियाली देते हैं।
तन-मन हर्षित हों वृक्षों को लगाएँ खूब,
धरती माँ का श्रृंगार वृक्ष कर देते हैं।।
4–आम,नीम, कटहल के खूब लगाओ वृक्ष,
वृक्षों को लगा के खूब दौलत कमाओगे।
वृक्ष काटकर नहीं वृक्ष आरोपित कर,
सारे जगत का तुम जीवन बचाओगे।।
स्वास्थ्य बने उत्तम औ देव भी प्रसन्न होवें,
धरती माँ को अद्भुत स्वर्ग बनाओगे।
सूरज की तपन में राही को आराम देते,
वृक्ष रोपित कर आशीष खूब पाओगे।।
#डॉ. मृदुला शुक्ला “मृदु”
लखीमपुर-खीरी(उत्तरप्रदेश)
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पर्यावरण कैसे बचेगा ?

Wed Jun 5 , 2019
सब कुछ करते अपने मन से। कुछ तो करो दुसरो के लिए काम। जिसमें हो सब की भलाई कुछ तो करो ऐसे तुम काम। लगाओ पेड़ पौधे और करो लोगों का जीवन खुश हाल।। अगर रहेगा हराभारा देश हमारा । तो जन जीवन होगा सदा समान । बिना किसी बीमारी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।