रंग

0 0
Read Time3 Minute, 36 Second

aalok kumar singrol

 समाज हमेसा से दो भागों में बंटा रहा है ,एक अच्छे लोगो मे दूसरा अच्छेपन का दिखावा करने वाले लोगो मे । समाज हमेसा दोहरे मापदंड तय करता है ,और यही समाज का असली रूप है। किसी व्यक्ति का रंग उसके व्यक्तित्व का परिचायक नही हो सकता ,पर सामाजिक रूप से रंग ही उसके व्यक्तित्व ,चरित्र और कार्यो का परिचायक है । समाज मे हमेसा  एक व्यक्ति को मानक मान कर दूसरे का रंग तय कर दिया जाता है ,कि यह व्यक्ति उस व्यक्ति से ज्यादा गोरा है या कम गोरा या फिर यह उससे ज्यादा काला है या कम काला । सामाजिकता का खोखला ढोंग करने वाले लोग अक्सर ऐसी बाते करते पाए जाते है , शायद उनकी नजर में यह समाज और लोगो की नजर मे उच्च स्थान प्राप्त करने का उचित तरीका हो । शहरीकरण के इस दौर में प्रायः गांव के लोगो का शहर पलायन होता है और यही रंगभेद का सामना उन्हें काम के दौरान करना पड़ता है। यह गलत है गहरा रंग लेकर पैदा होना शायद गुनाह है …? क्या नेल्सन मंडेला और बराक  ओबामा को पैदा होते ही मार देना चाहिए क्यों कि वो गोरे नही थे । नही ,मारना चाहिए तो ऐसी सोच को जो आज कल प्रायः हर लोगो के मन मे पायी जाती है जो अपने रंग को उच्चत्तर व दुसरों के रंग को निम्नतर बताने में लगे रहते है ।दरसल ऐसे लोग मानसिक रूप से पीड़ित होते है ।

मुझे एक वाक्या बहोत अच्छे से याद है कि मेरे ही एक घनिष्ठ मित्र ने मुझे देश में कहीं रंगभेद के कारण हुए अत्याचार के घटना की फ़ोटो भेज कर अप्रत्यक्ष रूप से मुझे वही कहना चाहा जिसकी बात ऊपर अभी तक हुई , घनिष्ठ मित्रो में ऐसे हंसी मजाक आम बात होते है पर क्या ये सही है कि हमेसा ऐसी घटना होने पर उस व्यक्ति पर भी तंज  कसा जाए जो ऐसा है ??
समाज हमेसा से ही ऐसी बातों को सही और एक सम्मान के तौर पे देखता आया है जो कि समाज का घिनौना और कड़वा सच है । ऐसे व्यक्तियों से लड़ने के बजाय उनसे सहानभूति प्रदर्शित करनी चाहिए क्यों कि वो एक प्रकार के मनो रोगी है और वह इस पीड़ा से बुरी तरह ग्रस्त है । उन्हें इस बात का ऐहसास कराना चाहिए कि जो उनका गोरा रंग है उसके पीछे एक बेहद काला रंग है जो बाहर के काले रंग से लाख गुना खतरनाक है । उनको यह समझाना चाहिए कि उनका यह रंग उनके व्यक्तित्व को प्रदर्शित नही करता तन गोरा मन काला हुआ तो वह गोरापन किसी काम का नही ।

परिचय- 
आलोक कुमार सिंगरौल
जन्म स्थान-शहडोल
वर्तमान  में भोपाल में सिविल सेवा की परीक्षा हेतु अध्ययनरत
निवासी-सतना

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आमचुनाव २०१९:  सत्ता मौन, विपक्ष कौन और मुद्दे गौण

Thu Apr 18 , 2019
  भारत जैसे जनतांत्रिक देश में इस समय एक पर्व मनाया जा रहा है जिसे आम चुनाव कहते है। इस पर्व का उत्साह तो राजनैतिक लोगों और जनता दोनों में है। किन्तु इस बार यह आम चुनाव कुछ खास है, क्योंकि यहाँ एक तरफ तो सत्ता पक्ष की हाहाकार है […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।