गरीबों की आवाज बुलन्द कर गए राहुल गांधी

0 0
Read Time7 Minute, 27 Second

gopal narsan
लोकसभा चुनाव की घोषणा के बाद देवभूमि उत्तराखंड के देहरादून में हुई कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की सफल रैली से कांग्रेसियों में भारी उत्साह व्याप्त हो गया है। कांग्रेस का जहां मौसम ने साथ दिया , वहीं कांग्रेस का कुनबा भी राहुल गांधी की रैली में एकजुट दिखाई दिया। कांग्रेस के सह प्रभारी के राजेश धर्माणी के संचालन में देहरादून के परेड मैदान में हुई राहुल गांधी की इस ऐतिहासिक रैली से यह संदेश जरूर गया है कि उत्तराखंड की जनता अब बदलाव के मूड में है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सामने उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री भाजपा के वरिष्ठ नेता सांसद भुवन चंद खंडूरी के पुत्र मनीष खंडूरी का कांग्रेस ज्वाइन करना, भाजपा के माथे पर परेशानी की लकीरे खींच गया है। भाजपा के राज्य नेतृत्व ने तो आखिरी दम तक मनीष खंडूरी को कांग्रेस में जाने से रोकने की कोशिश की। लेकिन वे कामयाब नहीं हो पाए। वहीं चुनाव ना लड़ने की जिद पर अड़े पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोशियारी को भी मनाने में भाजपा का राज्य नेतृत्व नाकाम रहा। राहुल गांधी ने अपने संबोधन में देवभूमि उत्तराखंड को रॉकी भाई बताते हुए कहा अखंड क्या का योगदान देश की रक्षा में अभूतपूर्व है उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के युवा वायु सेना थल सेना नौसेना के साथ साथ बीएसएफ सीआरपीएफ भारत तिब्बत पुलिस समेत मनीष सैनी संगठन में देश की रक्षा में अपना योगदान कर रहे हैं उन्होंने पुलवामा हेयर स्टाइल में शहीद हुए उत्तराखंड के वीर जवानों के घर जाकर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित के परिवारों से मिलकर शहीद जवानों की बहादुरी की बुरी बुरी प्रशंसा की उन्होंने कहा कि के जवानों के साथ है हर दुख सुख में खड़ी है। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने की खुली आलोचना की ओर कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केवल पूंजीपतियों के हिमायती है।उन्होंने राफेल मुद्दा भी उठाया और मोदी सरकार द्वारा चुनावी वायदे पूरे न करने के लिए उनकी आलोचना भी की।राहुल गांधी ने कांग्रेस के बढ़ते कुनबे को वक्त की जरूरत व मोदी सरकार से होते आम जन के मोहभंग को एक शुभ संकेत बताया।राहुल गांधी देहरादून में देश के लिए शहीद हुए जवानों के परिवार में भी गए और परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की।कांग्रेस की इस सफल रैली से कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत,प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह व पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय तीनो का कद बढ़ा है।उत्तराखंड कांग्रेस प्रभारी अनुग्रह नारायण सिंह भी रैली की सफलता से गदगद नजर आए।रैली को नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्रदयेश समेत सभी विधायकों ने सम्बोधित किया।राज्य के कोने कोने से पहुंचे कांगेस पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं में इस अवसर पर गजब का उत्साह देखने को मिला।घाड़ विकास परिषद के सदस्य रहे ताराचन्द सैनी व कांग्रेस नेता मुनेश त्यागी ने राहुल गांधी की रैली को कांगेस के लिए चुनावी संजीवनी बताया।माना जा रहा कि राज्य की पांचो लोकसभा सीटो पर राहुल की रैली से सकारात्मक संदेश गया है।

#श्रीगोपाल नारसन
परिचय: गोपाल नारसन की जन्मतिथि-२८ मई १९६४ हैl आपका निवास जनपद हरिद्वार(उत्तराखंड राज्य) स्थित गणेशपुर रुड़की के गीतांजलि विहार में हैl आपने कला व विधि में स्नातक के साथ ही पत्रकारिता की शिक्षा भी ली है,तो डिप्लोमा,विद्या वाचस्पति मानद सहित विद्यासागर मानद भी हासिल है। वकालत आपका व्यवसाय है और राज्य उपभोक्ता आयोग से जुड़े हुए हैंl लेखन के चलते आपकी हिन्दी में प्रकाशित पुस्तकें १२-नया विकास,चैक पोस्ट, मीडिया को फांसी दो,प्रवास और तिनका-तिनका संघर्ष आदि हैंl कुछ किताबें प्रकाशन की प्रक्रिया में हैंl सेवाकार्य में ख़ास तौर से उपभोक्ताओं को जागरूक करने के लिए २५ वर्ष से उपभोक्ता जागरूकता अभियान जारी है,जिसके तहत विभिन्न शिक्षण संस्थाओं व विधिक सेवा प्राधिकरण के शिविरों में निःशुल्क रूप से उपभोक्ता कानून की जानकारी देते हैंl आपने चरित्र निर्माण शिविरों का वर्षों तक संचालन किया है तो,पत्रकारिता के माध्यम से सामाजिक कुरीतियों व अंधविश्वास के विरूद्ध लेखन के साथ-साथ साक्षरता,शिक्षा व समग्र विकास का चिंतन लेखन भी जारी हैl राज्य स्तर पर मास्टर खिलाड़ी के रुप में पैदल चाल में २००३ में स्वर्ण पदक विजेता,दौड़ में कांस्य पदक तथा नेशनल मास्टर एथलीट चैम्पियनशिप सहित नेशनल स्वीमिंग चैम्पियनशिप में भी भागीदारी रही है। श्री नारसन को सम्मान के रूप में राष्ट्रीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा डॉ.आम्बेडकर नेशनल फैलोशिप,प्रेरक व्यक्तित्व सम्मान के साथ भी विक्रमशिला हिन्दी विद्यापीठ भागलपुर(बिहार) द्वारा भारत गौरव

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

ब्रज की होली

Sat Mar 16 , 2019
होरी आयी ,होरी आयी बूढे ,बच्चे सब पर मस्ती छायी। रंगों की हो रही बौछार। आया आज खुशियों का त्यौहार। गुजिया,मठरी बहुत बनाये। ठाकुर जी को भोग लगाये।। आज घर पर बनेगी ठंडाई। जम के चले आज पुरवाई। उस पर चढ़ा भांग का रंग। मस्ती करेंगे सब के संग। ब्रज […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।