परिवर्तन

Read Time12Seconds
rahul vyas
 परिवर्तन ही प्रकृति का नियम है”, परन्तु परिवर्तन का क्रम क्या होना चाहिए यह भी निर्भर होना चाहिए , आज-कल के अंकुरित पौधे जिनकी वृद्धि नियमानुसार ना होकर अन्य साधनों से बड़ाई जा रही है अर्थात वर्तमान के बच्चे जो उनकी उम्र से कहीं अधिक सोचने लगते है | सोच भी वह जो उनकी उम्र से कहीं अधिक जिसके कारण एक पारिवारिक भिन्नता उत्पन्न होना |
आज माता-पिता को उनके बच्चो के साथ उम्र के अनुसार व्यवहार करना चाहिए, जिसके कारण बच्चो में शिष्टाचार और संस्कार उत्पन्न हो | बच्चो को समझाना ,डांटना-फटकारना और यदि बात उनकी अच्छी तालीम की हो या उनके गलत व्यवहार की हो तो सिमित मारना भी उचित है क्योंकि आचार्य चाणक्य ने भी कहा है -“पुत्र से पांच वर्ष तक प्यार करना चाहिए। उसके बाद दस वर्ष तक अर्थात पंद्रह वर्ष की आयु तक उसे दंड आदि देते हुए अच्छे कार्य की और लगाना चाहिए। सोलहवां साल आने पर मित्र जैसा व्यवहार करना चाहिए। संसार में जो कुछ भी भला-बुरा है, उसका उसे ज्ञान कराना चाहिए |”
Fondle a son until he is five years of age, and use the stick for another ten years, but when he has attained his sixteenth year treats him as a friend.
कुछ माता-पिता अपने बच्चो को लाड प्यार इतना देते है कि एक समय एसा आता है कि वह उनकी बातो को सुनता तक नही है और कभी-कभी तो इस रूप से कहीं ज्यादा भयानक स्तिथि हो जाती है तब पुरे परिवार को शर्मिंदगी महसूस करनी पढ़ती है|
अच्छी शिक्षा,अच्छे संस्कार बच्चो को एक बेहतर इंसान बनाते है – राहुल व्यास
भारतीय परम्परा के अनुसार प्रथम गुरु माता-पिता होते है जो बच्चो को संस्कार से लेपित करते है अर्थात उन्हें सही गलत का ज्ञान कराना , बड़ो का आदर और सम्मान करना सिखाना इत्यादि | सामान्य भाषा में कहे तो नैतिक शिक्षा जो परिवाद द्वारा दी जाती है द्वितीय गुरु उनके शिक्षक होते है जो व्यावहारिक शिक्षा प्रदान करते है |
आज का युग पुराने युग की तरह नही है जँहा गुरुकुल स्थापित हो गुरुकुल में नैतिक शिक्षा से लेकर हर तरह की शिक्षा से परिचित कराया जाता था, परन्तु इस युग की चिंता हमें करनी होगी और आचार्य चाणक्य के कथनानुसार आज की पीढ़ी को सुरक्षित करना होगा |
#राहुल व्यास , दिल्ली 
परिचय – राहुल व्यास एक प्रतिष्ठित लेखक, कवि, चित्रकार एवं मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में जाने जाते है । लगभग 13 वर्ष की उम्र से ही लेखन कार्य में रुचि होने के कारण लगातार हिंदी भाषा के क्षेत्र में कार्य कर रहे है । 20 वर्ष की उम्र में अपने दो साझा संग्रह “साहित्य सागर” एवं “सत्यम प्रभात” प्रकाशित हुए । बहुत ही कम उम्र में उपलब्धियों को देखकर सरकार द्वारा 26 जनवरी 2017 को “नगर गौरव” की उपाधि प्रदान की । राहुल व्यास का जन्म 17 दिसंबर 1993 में मध्यप्रदेश के धार जिले में हुआ । वर्तमान में कई मंचो पर अपनी प्रस्तुति दे चुके राहुल व्यास एक व्याख्याता के रूप में बच्चो को शिक्षा प्रदान करते है । वर्ष 2017 से दूरदर्शन महानिदेशालय  दिल्ली में अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे है साथ ही कई संस्थानों में मोटिवेशनल स्पीकर के रूप में लोगों को प्रेरित करते है । चित्रकारी में रुचि होने के कारण अपने व्यस्ततम समय में से कुछ समय चित्रकारी करते है, मशहूर आर्ट “अक्षर गणेश” की कला में भारत में दूसरे नंबर पर स्थान है । साथ ही कई पुस्तकों का प्रकाशन हो रहा है।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सच

Sun Dec 16 , 2018
जो है नही वह दिखना क्या सच पर पर्दा करना क्या झूठी मान मर्यादा के लिए बनना क्या संवरना क्या यौवन आया चला जायेगा फिर अकड़ना क्या इतराना क्या बुढ़ापा आएगा आकर रहेगा फिर डरना क्या घबराना क्या जिंदा सदा रहा नही कोई फिर मौत को बुरा बताना क्या जिसने […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।