कलियाँ खिलेंगी मधुबन में फिर मुरझा जाएँगी, भेदभाव के दुर्भाव से गर्भ में सहमी बच्ची फिर मार दी जाएगी, भारत रो रहा है देश सो रहा है ऐसी दशा होगी सोचा न था.. सदियों से पूजित नारी पति से दुत्कारी जाएगी, ऋषि-मुनियों की धरती पर भी उनकी जान जाएगी, भारत […]

आधुनिकता के इस दौर में न राम है न राम सा। न माता कौशल्या सी न पिता राजा दशरथ सा। सीता सी नारी नहीं अब जो दे सके अग्नि परीक्षा, समाज उस पर ऊंगली उठाए कैसे हो उसकी रक्षा। लक्ष्मण सा भाई नहीं देखा जो चल दिये वनवास, भाई-भाई का […]

पाँच हजार वर्ष पूर्व भारत में जन्मे एक दिव्य महान, वैभवशाली महाराजा अग्रसेन जी अग्रवंश के भगवान। प्रताप नगर के राजा अग्रसेन जी अग्रोहा जिनकी धाम, प्रेम, त्याग, करुणा की प्रतिमूर्ति जन सेवा करना काम। धनपाल के पौत्र अग्रसेन जी राजा वल्लभ की संतान, प्रताप नगर के राजा थे सत्य-अंहिसा […]

भारत माँ की पावन भूमि में आज खुशियों की बहार। स्वतंत्रता दिवस की पावन बेला व राखी का त्यौहार। राखी के त्यौहार संग तिरंगा झंडा फहराएं हम, प्यार-स्नेह का बंधन, देशभक्ति मन में जगाएं हम। भाई-बहन के नेह का बंधन देश प्रेम का संयोग हुआ, केसरिया सफ़ेद हरा तिरंगा फहराने […]

देश के जाबाज़ सैनिकों तुम पर हमें अभिमान है। देश के वास्ते शहीद हुए बहादुर देश के वीर जवान है। अमर शहीदों की कुर्बानी, याद सदैव हमें आते रहेंगे, सूरज चाँद सितारें की तरह गगन में सदा चमकते रहेंगे। नमन माता-पिता को जिन्होंने वीर पुत्र को जन्म दिया, सीने पर […]

जन्मदिन हो मुबारक तुम्हें मिले खुशियां सारी कर्म करो तुम एेसा कि बन जाओ सबसे न्यारी यश-वैभव से पूरित भरा जीवन सारा है स्वस्थ रहो प्रफुल्लित रहो यही आशीर्वाद हमारा है संस्कार से पूर्ण हो और बनो आज्ञाकारी नेक काम करो ऐसा कि सब गुणगान करें तुम्हारी पढाई में अपना […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।