Tag archives for prasad

Uncategorized

आज़ाद गज़ल

कुछ के लिए मै खास लिखता हूँ कुछ के लिए बकबास लिखता हूँ । हाँ सच ही कहा है जनाब आपने खो कर मैं होशोहवास लिखता हूँ । भला कैसे…
Continue Reading
Uncategorized

ख्वाबों का खैर

ख्वाबों का खैर मकदम ज़रूरी है किसी हसीं की नजरें करम ज़रूरी है । उम्रे सफ़र के रास्ते कटे आराम से ज़िन्दगी में कोई हमदम ज़रूरी है । तू रहे,मै…
Continue Reading
Uncategorized

न ढूंढ 

मेरी   शायरी मे  यार   मुहब्बत   न ढूंढ हुस्न और   इश्क़   की   लज़्ज़त न ढूंढ । महरूम हैं मेरे शेर जलवाए   महबूब से ज़िक्र तू यहाँ हसिनाए खूबसूरत न ढूंढ। मत…
Continue Reading
Uncategorized

अरमान था बहारों का

दिल में अरमान था  बहारों का और तोहफा मिला है खारों का । तेरे बगैर बता मै अब क्या करूँ इन बेजान दिलकश नजारों का । रौशनी जब   मुझे खलने…
Continue Reading
Uncategorized

क्या धुलेंगे पाप शाही स्नान से

धुलेंगे पाप क्या  शाही   स्नान से ? बात करते हो बिलकुल नादान से । मोह,माया ,छल ,कपट,लोभ,हिंसा छूट पायेगा क्या आज  इन्सान से । बचाना होगा खुद से  ही खुद…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है