चलो दूर शहर से,कहीं शांत शहर में, दोजक से कहीं दूर,जन्नत के शहर मे। पागल है ये जमाना दौलत के नसे में, चल दूर कहीं साथी चाहत के शहर में। बरसों तलक थी आशा अपने तमाम थे, अब बेबशी की माया अपने ही शहर में। चलो दूर शहर से,कहीं शांत […]

सनम तेरी मुलाकातों का ये सिलसिला, भुल कर भी सनम कभी भुला न पाया । क्या कमी रह गई प्यार में ये दिलरुबा , सनम आज तक मैं खुद समझ न पाया। आज तक ओ सनम तेरी यादों का, सिल सिला बरकरार है। न जाने कैसी सनम तेरी लगन का, […]

करागार में जन्म लिया, हालातों ने दूर किया, नंद बाबा ने अपना कर, स्व- जिवन उद्धार किया। मात यशोदा गोदी मिल गई, जैसे सारी खुशियाँ मिल गई, नंद बाबा के मनिक आँगन में , दुध दही की नदियाँ मिल गई। ग्वालन गोपीन की टोली, बृन्दावन कदम्ब की छांही, नटखट नंदलाला […]

वतन से हमको भी यारा, मोहब्बत है मोहब्बत है । ये जन्नत से भी ज्यादा, खूबसूरत है खूबसूरत है। यहाँ सावन की मस्ती है, यहाँ जड़ों की ठण्डक है। यहाँ बारिश की रिमझिम है, यहाँ मस्ती हर वक्त रहती है। यहाँ पंक्षी चहकते हैं, यहाँ कोयल कूकती है। यहाँ पर्वत […]

                                                       तू है मेरा मन मीत प्रिये, मैं तेरे ख्वाबों की मलिका। मिल बैठे यदि हम दोनों, मिट जाए बस खटका। तेरे लिए गुनगुनाऊँ गीत प्रिये, अपनी सूद बुद भूल खड़ी। चाँद को छत पर अब तकना, और तेरी […]

कितनी ईर्ष्या है भाई , इस कर्महीन जमाने में। यह कितनों को है लाई, महलों से झोपड़ियों में।कितनी ईर्ष्या है भाई , इस कर्महीन जमाने में। भाई भाई में नहीं बनती, रिस्ते हैं अब जेभो में। कितनी ईर्ष्या है भाई, इस कर्महीन जमाने में। क्यों करते हैं ईर्ष्या पता नहीं, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।