आगर मालवा के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय आगर के व्याख्याता डॉ दशरथ मसानिया साहित्य के क्षेत्र में अनेक उपलब्धियां दर्ज हैं। 20 से अधिक पुस्तके, 50 से अधिक नवाचार है। इन्हीं उपलब्धियों के आधार पर उन्हें मध्यप्रदेश शासन तथा देश के कई राज्यों ने पुरस्कृत भी किया है। डॉं मसानिया […]

.             …… जल ने आबाद किया,सुने है कहानी। जीवन  विधाता बंधु , रीत रहा पानी। पानी  बर्बाद  किया, भावि नहीं देखे। पीढ़ी आज कह रही, कौन देय लेखे। खोज रहा  नीर धीर, मान मानवो में। खो गया है  जो आज,राम दानवों में। सूख रहे  झील  ताल ,नदी बाव सारे। युद्ध  […]

*राधा से कान्हा कहे, अब होली  के बाद।* *अब भी अपने देश में, होली  है  आबाद।* *होली  है आबाद, रिवाजें     बहके बदले।* *प्रीत नेह व्यवहार,लगे मन मानस  गदले।* *शर्मा  बाबू लाल, गऊ क्यों लगती बाधा।* *तरु कदम्ब की छाँव,कहे मुस्काती राधा।* .                      *२*  *राधा मुस्काती कहे, सुन  लो गोपी नाथ।* *कहाँ […]

गुलाबी  रंग   फूलों  में। सजा  है  संग  शूलो में। सजे ये ओस  के मोती। धरा अहसास के बोती। कहें ऋतु फाग होली की। हवाएँ   गीत   बोली  की। दहकना  है  पलाशों  का। गया  मौसम  हताशों का। प्रकृति  सौगात  देती हैं। धरा   उपहार   लेती  है। तभी तो  रीति होली हो। सही मन […]

दोहा- मेघपुष्प  पानी  सलिल, आपः  पाथः तोय। लिखूँ वन्दना वरुण की,निर्मल मति दे मोय।। चौपाई- प्रथम   गणेश   शारदे  वंदन। वरुण देव,पाठक अभिनंदन।।१ जल से जीवन यह जग जाना। जल मे  प्राणवायु  को   माना।।२ जल से जीव और  परजीवी। जल से वसुधा  बनी सजीवी।।३ जल से अन्न  अन्न से जीवन। जल […]

रंग सजे  सीमा  पर सारे। शंख  बजाए कष्ट निवारे। संकट आतंकी  बन  बैठे। कान  उन्हीं के वीर उमेंठे। राष्ट्र सनेही  भंग  चढ़ालो। शत्रु समूहों को मथ डालो। ओढ़ तिरंगा ले बन शोला। केशरिया होली तन चोला। याद  करे  संसार  रुहानी। खेल सखे होली  मरदानी। चेत सके आतंक न प्यादे। चंग  […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।