जलमाला चालीसा

0 0
Read Time5 Minute, 9 Second

babulal sharma

दोहा-
मेघपुष्प  पानी  सलिल, आपः  पाथः तोय।
लिखूँ वन्दना वरुण की,निर्मल मति दे मोय।।

चौपाई-
प्रथम   गणेश   शारदे  वंदन।
वरुण देव,पाठक अभिनंदन।।१

जल से जीवन यह जग जाना।
जल मे  प्राणवायु  को   माना।।२

जल से जीव और  परजीवी।
जल से वसुधा  बनी सजीवी।।३

जल से अन्न  अन्न से जीवन।
जल बिन कैसे हों धरती वन।।४

जल  है  भाग  तीन चौथाई।
जल की महिमा सके न गाई।।५

जल गागर  में  हो  या सागर।
तन और धरती भाग बराबर।।६

धरती जल या वरषा जल हो।
नीर जरूरत  तो पल पल हो।।७

प्राणी तन मे  रक्त  महातम।
सृष्टि हित मे नीर है आतम।।८

वरुण देव हैं पूज्य हमारे।
धरा चुनरिया  रंगत  डारे।।९

देव इन्द्र बादल बन बरसे।
वर्षा जल से वसुधा सरसे।।१०

दोहा-
जनहित जलहित देशहित,जागरूक हो मीत।
जीवन के आसार तब, जल स्रोतों  से  प्रीत।।

चौपाई-
सब जीवों की प्यास बुझाए।
मीन मकर  मोती जल जाए।।११

शंख कमल जल बीच निपजते।
जिनसे   देव   ईश  सब  सजते।।१२

जल से ताल तलैया कूपा।
बापी सरवर सिंधु अनूपा।।१३

खाड़ी सागर से महासागर।
मरु भूमि में  अमृत  गागर।।१४

झील बाँध सर सरित अनेका।
भिन्न रूप  रखते  जल एका।।१५

सागर खारा जल भर ढोता।
क्रिस्टल बने राम रस होता।।१६

शीत नीर जम  बर्फ कहाता।
बहे पिघल जल धार बनाता।।१७

वही  धार नदिया  बन जाती।
कुछ नदियाँ बरसाति सुहाती।।१८

जल अतिवृष्टि बाढ़ कहलाती।
अल्पवृष्टि हो फसल सुखाती।।१९

मध्यम जल वर्षा  हितकारी।
जीव जन्तु मानव सुखकारी।।२०

दोहा-
वारि अंबु जल पुष्करं, अम्मः अर्णः नीर।
उदकं घनरस शम्बरं,रक्ष मनुज मतिधीर।।

चौपाई-
हिमगल नीर, मेह से नीरा।
बह के बने सरित गम्भीरा।।२१

नदियाँ स्व पथ स्वयं बनाती।
खेत फसल धान  सरसाती।।२२

नदियों के तट तीर्थ हमारे।
पुरा सभ्यता नदी किनारे।।२३

नदियाँ ही है  जीवन धारा।
प्यारा लगता नदी किनारा।।२४

नौका से आजीविक चलती।
माँझी  चले ग्रहस्थी  पलती।।२५

नदी नीर  पावन  जग माने।
सरिता को माँ सम सम्माने।।२६

गंगा  माँ   पावनतम   सरिता।
काव्य कार हारे लिख कविता।।२७

यमराजा की श्वास अटकती।
सबको पापमुक्त नद करती।।२८

गंगा माँ  सम पावन धारा।
छू कर दर्शन पुण्य हमारा।।२९

यमुना  यादें  गंगा  भगिनी।
कान्हा-लीला गोपी-ठगनी।।३०

दोहा-
सरिता  तटिनी  तरंगिणी, द्वीपवती   सारंग।
नद सरि सरिता आपगा,जलमाला जलसंग।।

चौपाई-
सरस्वती की राम कहानी।
कहते सुनते पुरा जुबानी।।३१

नदी नर्मदा का हर कंकर।
लगता हमको देवा शंकर।।३२

सरयू  घग्घर   माही   चम्बल।
नदियाँ सब धरती को सम्बल।।३३

नदियों पर जल बाँध बनाते।
बिजली हित  संयत्र  लगाते।।३४

बाँध बने से  बहती नहरें।
इनसे जलस्तर भी  ठहरे।।३५

नहरी जल खेतों तक जाए।
खेत खेत फसलें  लहलाए।।३६

इसीलिए  जल  नदी सफाई।
करना सब यह काज भलाई।।३७

नदी मिले ज्यों सागर नीरा।
पंच तत्व  में  मिले  शरीरा।।३८

तन  मन  नदियाँ  नीर सँवारो।
स्वच्छ नीर रख भावि सुधारो।।३९

शर्मा बाबू लाल सुनाई।
जल माला गाई चौपाई।।४०

चालीसा मन चित पढ़ लीजे।
जल नदियों का आदर कीजे।।४१

दोहा-
अपगा लहरी निम्नगा,निर्झरिणी जलधार।
सदा सनेही  सींचती, करलो नमन विचार।।

नाम– बाबू लाल शर्मा 
साहित्यिक उपनाम- बौहरा
जन्म स्थान – सिकन्दरा, दौसा(राज.)
वर्तमान पता- सिकन्दरा, दौसा (राज.)
राज्य- राजस्थान
शिक्षा-M.A, B.ED.
कार्यक्षेत्र- व.अध्यापक,राजकीय सेवा
सामाजिक क्षेत्र- बेटी बचाओ ..बेटी पढाओ अभियान,सामाजिक सुधार
लेखन विधा -कविता, कहानी,उपन्यास,दोहे
सम्मान-शिक्षा एवं साक्षरता के क्षेत्र मे पुरस्कृत
अन्य उपलब्धियाँ- स्वैच्छिक.. बेटी बचाओ.. बेटी पढाओ अभियान
लेखन का उद्देश्य-विद्यार्थी-बेटियों के हितार्थ,हिन्दी सेवा एवं स्वान्तः सुखायः

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

इच्छा

Tue Mar 26 , 2019
मन की इच्छा ऊचाइयां छूती है जो नित नये  सपने बुनती है पर सपने तो सपने होते है बिना कर्म कभी  पूरे नही होते है मन की इच्छा को यदि पूरा करना है देखे सपनो को यथार्थ में लाना है कर्म की कसौटी पर  उन्हें कसना होगा परिश्रम की चाशनी […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।