विश्व मातृदिवस विशेष जन्म दिया तूने ये मुझ पर उपकार है, मां मेरी तू जग में सबसे महान है। तेरे आँचल की छांव में खेला, पाई जग में खुशियां मेने सारी। सदियों से धरा पर तेरा ही गुणगान है, तुझसा न दुनियां में और कोई नाम है। लक्ष्मी ,दुर्गा और […]

वसन्त उत्सव ये आया है, खुशी के गीत गाओ तुम। खिली सरसों ने फैलाई, चुनर रंगीन धरती पे। अमुवा की भी डाली आज, बैरों से है लहराई। खिले पलाश है देखो, चमन भी है महकाया। कोयल और पपीहा भी, गाए मस्त तराने आज। प्रकृति ने भी ओढ़ी है, मखमली चादर […]

जिसे खून लगा मुंह सत्ता का,  उसे न भान है जनता का। देखी कायरता उन कुत्तों  की, जो घात लगाए बैठे थे। सोच `सिंह` का वध करने का,  अरमान दिल में जगा बैठे थे। चन्द सियासी जयचंदों ने,  वीर सपूत को झोंक दिया। झुलस उठी माँ भारती,  देख लहू उन […]

मायूस हो कर अकेले में रोता हूँ, आती है राखी,तब किस्मत को कोसता हूँ। देखता हूँ हर कलाई में प्यार बहना का, अपनी सूनी कलाई को तसल्ली देता हूँ। दिल में तूफान-सा उठता है देख राखी को, निकलता हूँ सोचकर घर से अपने। जिसका कोई भाई नहीं,ऐसी भी बहन होगी, […]

खुशकिस्मत होते हैं वो पिता जिनकी बेटियां होती है। सब दुःख भूल पिता की वो प्रहरी होती है॥ बेटे भी किसी की बेटी की खातिर पराए हो जाते हैं। बेटी पराई होने पर भी अपनों के साथ रहती है॥ जब भी मुसीबत में पिता होते हैं,बेटी रह नहीं पाती है। […]

1

जलती रही जौहर में नारियां, भेड़िए फ़िर भी मौन थे। हमें पढ़ाया गया अकबर महान, तो फिर महाराणा प्रताप कौन थे? हुआ तांडव मुगलों का जब, सारा जनमानस मौन था। हुए बहुत मराठे वीर पर, शिवाजी  सबमें  शेर थे। सड़ती रही लाशें सड़कों पर, गांधी फिर भी मौन थे, हमें […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।