आग उम्मीद की मुद्दतों से लगी जाने संदेश कब मेघ का आएगा, वृक्ष ख्वाबों के तुम भी लगा दो सनम वरना चौमास सूखा गुजर जाएगा। मन मरुस्थल न बन जाए मेरा प्रिये, मानसूनों की सौगात कर दीजिए.. मैं अमावस की ढलती हुई शाम हूँ पूर्णिमा की तरह रात कर दीजिए, […]

असुरों की टोली ने फ़िर से, कर डाला है भीषण निनाद.. इस देवभूमि पर दानवदल, फैला बैठा जाला-जिहाद। मानव चेतना अचेत पड़ी, क्या फूट गई हिय की आँखें ? लगता है जैसे खण्ड-खण्ड.. धर्मों की बटी हुईं शाखें। सो गए आज क्या परशुराम, खो गए कहाँ पर मेघश्याम.. धर्मों के […]

हैं धन्य हरीश साल्वे जी, जो बने मसीहा भूषण के थूका है आज़ उन्होंने मुँह पर उस स्वराज के भूषण के। ये एक तमाचा ही समझो, पाकिस्तानी मंसूबों पर गहरा हो गया कुठाराघात पाकिस्तानी महबूबों पर। दुनिया देखे अब दौर नहीं, जब हम घुट-घुटकर जीते थे बेबस होते सबके आगे […]

पड़ गई सारी उल्टी चाल,किया दिल्ली ने गुरु घंटाल, हार गए यार केजरीवाल,बनाया ईवीएम को ढाल.. सत्तर में से सड़सठ लाए,चल गया झाडू,कूचा, सोच रहे थे जीत लिया है हिंदुस्तान समूचा.. अब उतरी केंचुली की खाल,ले गया फिरकी कैसे काल.. पड़ गयी सारी उल्टी चाल ——। सबको डरा रहे थे […]

सच की हिम्मत पा के लिख, अपनी जिद में जा के लिख। रक्त सभी का जाम हुआ, अब तो आग लगा के लिख। राणा-सा है बल तुझमें, घास-रोटियाँ खा के लिख। बहुत फूल बरसाए हैं, अब तलवार उठा के लिख। स्याही कम पड़ जाए तो, अपना खून बहा के लिख। […]

1

कब तक यूँ श्वेत कपोतों की बिरियानी उन्हें खिलाओगे, कब तक घाटी के असुरों को वीरों का रक्त पिलाओगे। कब तक नापाक पड़ोसी की साजिश में फ़ंसते जाओगे, कब तक समझौतों को कर शहादतों पर हँसते जाओगे। अलगाववाद,आतंकवाद को अलग-अलग मत तौलो जी, वो भी तो आतंकी हैं अब छाती […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।