प्रधानमंत्री के रूप में अपने दूसरे कार्यकाल की शुरूआत करने जा रहे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ी बात कही। उन्होंने उस दुखती हुई रग पर हाथ रखने के प्रबल संकेत दिए जिस पर अबतक देश के किसी भी नेता ने हाथ नहीं रखा था। वास्तव में यदि यह […]

वाह रे सियासत तेरे रूप अनेंक, यह एक ऐसी पहेली है जिसको समझ पाना अत्यंत जटिल है। क्योंकि, कोई भी राजनीतिक व्यक्ति की कथनी एवं करनी में बहुत ही बड़ा अंतर होता है। कोई भी नेता क्या कहता है यह अलग विषय है परन्तु वह करता क्या है, इसे समझने […]

रात बढ़ती जाती है, काली परछाई की तरह,, देह रौंदी जाती है कुम्हराई मिट्टी की तरह,, सजे बदन, सवंरे नयन बाट जोहते तलबगार की,, वेश्यालय की ये कहानी है हर एक किरदार की,, पूरी देह पर भारी बस एक खाली पेट हो जाता है,, कोई बोटी का लुटेरा जब दो […]

मैं यूँ तो बेसाख़्ता होके जी नहीं सकती गर मुझे आँचल दिया है तो औजार भी दे किताबी बातों से कब मिटी है आग पेट की गरीबों को रोटी ही नहीं,आँखों में अंगार भी दे कहाँ जाएँगी ये सारी ही तालिमशुदा जवानियाँ इनके हुनर की नुमाइंदगी को कोई बाज़ार भी […]

बेटियो कि मत करो, लोगो अब उपेक्षा / परिवार कि जान,शान, होती है बेटियां  / घर में खुशाली लेकर, आती है बेटियां / संस्कारो के बीज, बोती है बेटियां / बेटा अगर हीरा है, तो मोती है बेटियां / नरम गरम स्वभाव कि, होती है बेटियां / हर कार्य में […]

जो रूकता नही, ठहरता नही रौंद देता है लाखों ख्वाहिशें उसे फर्क नही पड़ता। वो बस चलता जाता है, अपनी धुन में,में,अपने संगीत में उससे कोई बात छुप पाना मुश्किल है वक्त, समय, घड़ी कईं नाम है जिसके, कब बीत गया ये जिन्दगी का लंबा सफर ये बस वक्त बता […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।