5

अम्मा की दो अंगुलियां काली नहीं होती अब तो, बच्चों के नैनों में काजल भी नहीं मिलती अब तो। कजरा रे और काले नैना कोरी कल्पना रह गयी, और धीरे धीरे काजल श्रृंगारदान से गायब हो गयी। पल्लू माँ की साड़ी का अब गंदा नहीं होता माँ से रह कर […]

  गीतों का मल्हार लिए, फूलों का श्रंगार लिए। खिल गए फूल अनन्त, आ गया देखो प्यारा बसंत॥ फूलों से खेत हो रहे हरे-भरे, पक्षी गीत गा रहे भावना भरे। नर-नारी और झूमे साधू सन्त, आ गया देखो प्यारा बसंत॥ नदियाँ फूलों से श्रृंगार करे, धरा भी किरणों से मांग […]

14

एक पार्टी में हम घूम रहे थे, खाली जगह को ढूँढ रहे थे। भीड़ से हर मेजबान घिरा था, मैं ही एक ऐसा सिरफिरा था। जो भीड़ से इतनी दूर खड़ा था, मन मेरा भी दावत में पड़ा था। एक टिक्की का दसों हाथ स्वागत करते, तब टिक्की किसी एक […]

8

फुर्सत तेरा कैसा रंग ? फुर्सत तेरा कैसा है ढंग ? लाल,नीली,काली,नारंगी, सुराही,घड़ा या जैसे सारंगी। बता दे पता अपने निवास का, तेरा घर है जरूर घास का। जिससे निकलना तुझे है मुश्किल, लेकिन तेरे बिन मैं होता व्याकुल। तेरी कुटिया के बाहर है लक्ष्मण रेखा, अरे! फुर्सत को किसने […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।