मैं कहीं भी रहूं दर्द रहता मुझे, रो पड़ूँगा अभी ऐसा लगता मुझे। झेलते-झेलते मिट गई जिंदगी, वह कहां तक भला याद रखता मुझे। साथ देता बहुत मेरी तकलीफ में, आज यदि प्यार से कोई सुनता मुझे। सिर्फ मतलब में आवाज देते सभी, वर्ना अपना यहां कौन कहता मुझे। शर्त […]

श्वेत वस्त्र धारिणी माँ, वीणा पाणि शारदे माँ मेरी कोठरी में भी तो, ज्ञान भर दीजिए। देती रहें आप सारे कवियों को शुभाशीष, आप निज हाथ, मम शीश धर दीजिए। हम हैं नादान किन्तु बालक तो आपके ही, दुख अवसाद पाप, मात हर लीजिए। आपकी कृपा से ही तो, काव्य […]

भाग्य विधाता सोच रहा सब। तू हस्तरेखाएँ क्यों देखे॥ नितदिन सूरज उगता रहता। तू ढलता सूरज क्यों देखे॥ देख गगन भी गरज रहा अब। तू सूखी जमीं को क्यों देखे॥ जग रौशन करना है तुम्हें। गम का अंधेरा क्यों देखे॥ अपने हुनर पे है यकीं जब। जाति-आरक्षण तू क्यों देखे॥ […]

3

हमको किसी से कोई शिकायत नहीं रही, हमको अब उसकी जरूरत नहीं रही। हथियार हमारे रहे मुस्तैद हमेशा, ये और बात है कि अदावत नहीं रही। पहले की तरह लोग यहां मिलते ही नहीं, और आज यहाँ यारों तिजारत नहीं रही। हमने तो खा लिए यहां धोखे मोहब्बत में भी, […]

1

कब्र से उठ के उसने पुकारा मुझे, कुछ नहीं चाहिए अब तुम्हारा मुझे। मुझको दरिया की कोई जरूरत नहीं, छोड़ दो हो सके तो किनारा मुझे। अपनी रक्षा में गर हाथ मेरा उठा, दोष मत दीजिएगा दोबारा मुझे। अन्न से भेंट दिनभर नहीं हो सकी, ऐसा बाँधे रहा भाईचारा मुझे। […]

उलझनें हैं बहुत यहाँ मगर लड़ना आना चाहिए, हौंसलों के बलबूते तुम्हें उड़ना आना चाहिए। जन्म दिया है ईश्वर ने तुम्हें मानव जाति में, कर्म का चयन स्वयं को ही करना आना चाहिए। मुक़ाम आज नहीं,तो कल अवश्य ही पाओगे तुम, राह कठिन जरुर पर निरंतर चलना आना चाहिए। दयनीय […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।