दिव्य-पायलिया—जानकी

4
Read Time5Seconds

babulal sharma

पायल,दिव्य पद कमल
वे दिव्य-देवी प्रमान् की।
जानकी हर ली दशानन
बाजी लगादी जान की।

हाः राम,हाः लषन, वीर
हर ली ये रावण पातकी।
मानी न, आन लषन की
दोषी बनी निज जानकी।

क्रोधित जटायू भिड़ रहा
ले जाने न दे माँ जानकी।
जानकी हित ‘पर’कटाये
परवाह नहीं की जान की।

पथ में देख,कपिजूथ सिय
किष्किंधा गिरि शान की।
पटकी…पायलिया राह में
सोच समझ हिय जानकी।

भटकत रामलखन वन में
द्वय खोजत सिय मानकी।
मन बजती, रमती प्रभु के
दिव्य पायलिया जानकी।

हनुमत मिले द्विज वेष में
मनभक्ति,प्रेम सम्मान की।
प्रभु ने बखानी,निजव्यथा
वन राम लक्ष्मण जानकी।

आ मिले हनु सुकंठ हरि
सुरीति प्रीति पहचान की।
देखीं वे दैवी पायलें
है वचन खोजें जानकी।

प्रभुराम देखि,भ्रात पूछे
पायल हैं क्या जान की।
लखन कहे करजोरि केे
तात, क्षमा हो जान की।

पद कमल तो पहचानलूँ
पूजे , चरण श्री जानकी।
पायल पहचानू नहीं , मै
पदरज हूँ माता जानकी।

नाम- बाबू लाल शर्मा 

साहित्यिक उपनाम- बौहरा

जन्म स्थान – सिकन्दरा, दौसा(राज.)

वर्तमान पता- सिकन्दरा, दौसा  (राज.)

राज्य- राजस्थान

शिक्षा-M.A, B.ED.

कार्यक्षेत्र- व.अध्यापक,राजकीय सेवा

सामाजिक क्षेत्र- बेटी बचाओ ..बेटी पढाओ अभियान,सामाजिक सुधार

लेखन विधा -कविता, कहानी,उपन्यास,दोहे

सम्मान-शिक्षा एवं साक्षरता के क्षेत्र मे पुरस्कृत

अन्य उपलब्धियाँ- स्वैच्छिक.. बेटी बचाओ.. बेटी पढाओ   अभियान

लेखन का उद्देश्य-विद्यार्थी-बेटियों के हितार्थ,हिन्दी सेवा एवं स्वान्तः सुखायः

0 0

matruadmin

4 thoughts on “दिव्य-पायलिया—जानकी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

करता हूँ तूझसे ये वादा....

Wed May 23 , 2018
करता हूँ तुझसे ये वादा तुझे न मैं भुलाऊँगा तू जाये जितनी मर्तवा रूठ तुझको मनाऊँगा। करता हूँ तुझसे ये वादा तुझे न मैं भुलाऊँगा। माना है तेरी आदत बहाने सौ बनाने की बात हर बात पर लड़ना बेबज़ह रूठ जाने की तू जाये जितनी मर्तवा रूठ तुझको मनाऊँगा। करता […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।