अखिल भारतीय स्तर पर बाल साहित्य सम्मानों हेतु आमन्त्रण

0 0
Read Time3 Minute, 56 Second
rajkumar
आकोला |
“राजकुमार जैन राजन फाउंडेशन, आकोला (राज.) द्वारा अखिल भारतीय स्तर पर पिछले 12 वर्षों से नियमित प्रदान किये जा रहे बाल साहित्य सम्मानों  2018 हेतु अपनी उपलब्धियों का विवरण एवम सम्मान योग्य वरिष्ठ साहित्यकारों  के नामों की अनुशंषाएँ 20 सितम्बर 2018 तक सादर आमंत्रित है। निम्न सम्मान 13 वें भव्य सम्मान समारोह में प्रदान किये जाएंगे-
■राष्ट्र कवि प. सोहनलाल द्विवेदी बाल साहित्यकार सम्मान ( 21000/-)
■डॉ राष्ट्र बन्धु स्मृति वरिष्ठ बाल साहित्यकर सम्मान (5000/-)
■डॉ राष्ट्र बन्धु स्मृति युवा बाल साहित्यकार सम्मान (5000)
■डॉ श्रीप्रसाद स्मृति वरिष्ठ बाल साहित्यकार सम्मान(5000/-)
■डॉ श्रीप्रसाद स्मृति युवा बाल साहित्यकार सम्मान (5000/-)
■डॉ बालशौरि रेड्डी स्मृति बाल साहित्यकार सम्मान ( दो, प्रत्येक  3100/-)
■उत्कृष्ठ बाल पत्रिका सम्मान ( 5000/-) पिछले 5 वर्षों से नियमित प्रकाशित हो रही बाल पत्रिकाएं, पिछले 3 अंकों की 2-2 प्रतियां भेजनी होगी।
■बाल साहित्य उन्नयन सम्मान (ऐसी साहित्यिक पत्रिकाओं के लिए जो कमसे कम 4-6 पृष्ठ बाल साहित्य के नियमित प्रकाशित कर रही है।( 3100/-)
■ चन्द्र सिंह बिरकाली राजस्थानी बाल साहित्यकार सम्मान (5000/-
■ बाल साहित्य सृजन के लिए 11 स्मृति सम्मान , (प्रत्येक  2100/-)
उपरोक्त सम्मान हिंदी बाल साहित्य सृजन, उन्नयन, प्रचार प्रसार के क्षेत्र में महनीय योगदान करने वाले  भारत-नेपाल के चयनित रचनाकारों /पत्रिकाओं को दिया जाएगा। अतः  पिछले 5 वर्षों में प्रकाशित बाल साहित्य की श्रेठ पुस्तक की 2 प्रतियों के साथ, बाल साहित्य के प्रचार प्रसार के लिए किए जा रहे प्रयासों का विवरण भी सलग्न कर भेजना होगा।  अपना एक ताजा रंगीन फोटो व उपलब्धियों का स प्रमाण विवरण सलग्न करें
 वरिष्ठ बाल साहित्यकारों को स्वयम कोई प्रविष्टि भेजने की आवश्यकता नही है, प्राप्त अनुशंसाओं के आधार पर हम स्वयं संपर्क करेंगे।
सम्मान हेतु आपसे अनुशंषाएँ सादर आमंत्रित हैं जिसमें  वरिष्ठ बाल साहित्यकारों का  सम्पूर्ण अवदान, उनका पूरा पता व सम्पर्क सूत्र भेजिएगा ।
 नोट: *किसी भी प्रकार की जानकारी व्हाट्सएप्प न. 98282 19919  ले सकते हैं, पर कोई फोटो ,मीडिया फाइल, बायो डेटा पोस्ट न करें*।
प्रविष्टियां/पुस्तकें /अनुशंषाएँ केवल रजिस्टर्ड डाक द्वारा ही भेजी जानी चाहिए(कुरियर से नही)। हमारा पता-
राजकुमार जैन राजन
चित्रा प्रकाशन
आकोला- 312205 (चित्तौरगढ़) राजस्थान
■ अन्य साहित्यिक सम्मानों के लिए प्रविष्टियां शीघ्र आमन्त्रित■

Arpan Jain

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बेखबर फासले

Sat May 12 , 2018
सहजता से चल रही रमा और राजन की गृहस्थी में बेखबर फासले दस्तक दे चुके थे । मन के किसी कोने में दोनों ही एक अलगाव सा महसूस कर रहे थे पर इसे व्यक्त करने से बचते थे । दस साल की भरी – पूरी खुशहाल जिंदगी में इन फासलों […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।