sushila-joshi-300x195
इस जगत में
कौन किसकी
प्रियतमा है,
कौन प्रीतम।
प्रीति द्युति
चमको जहां पल,
वहीं फूटा
चिर विरहतम।
देख जिसकी ओर बस,
प्रीत वह ही मुस्कराता
मौन होकर बात मन की
सांध्य घन से दृग झुकाता,
कांप निश्छल
लाज प्रतिमा
अचिर उपजती प्रणय भ्रम॥
प्राण का दीपक जलाकर,
थाल में नैवैद्य जीवन
मुग्ध जब झुकता पुजारी
मुदित करने को समर्थन,
तृप्ति देता देवता क्या
तृष्णा का वरदान दुर्दम॥
यह नियति का व्यंग्य कैसा,
प्रीति में परतंत्र सब जन
चोर-सी भयभीत शंकित
वासना पर कुछ न अंकुश,
चल रहा ओर निर्भय
तृप्ति के पल-पल उपक्रम॥
जीतते ही रहे वंचक
मन स्वयं हर बार हारा,
चाहे फिर भी प्रणय की
घूमता असहाय मारा,
प्यास जलती मांगती जल
सब सरो में कीच कर्दम॥
नेह जब होवे तिरस्कृत,
मन रुदन कब तक करेगा
भटकता कब तक विजन में,
शून्य में आहें भरेगा
नेह की परवाह किसको,
स्वार्थरत संसार निर्मम॥

            #सुशीला जोशी

परिचय: नगरीय पब्लिक स्कूल में प्रशासनिक नौकरी करने वाली सुशीला जोशी का जन्म १९४१ में हुआ है। हिन्दी-अंग्रेजी में एमए के साथ ही आपने बीएड भी किया है। आप संगीत प्रभाकर (गायन, तबला, सहित सितार व कथक( प्रयाग संगीत समिति-इलाहाबाद) में भी निपुण हैं। लेखन में आप सभी विधाओं में बचपन से आज तक सक्रिय हैं। पांच पुस्तकों का प्रकाशन सहित अप्रकाशित साहित्य में १५ पांडुलिपियां तैयार हैं। अन्य पुरस्कारों के साथ आपको उत्तर प्रदेश हिन्दी साहित्य संस्थान द्वारा ‘अज्ञेय’ पुरस्कार दिया गया है। आकाशवाणी (दिल्ली)से ध्वन्यात्मक नाटकों में ध्वनि प्रसारण और १९६९ तथा २०१० में नाटक में अभिनय,सितार व कथक की मंच प्रस्तुति दी है। अंग्रेजी स्कूलों में शिक्षण और प्राचार्या भी रही हैं। आप मुज़फ्फरनगर में निवासी हैं|

About the author

(Visited 1 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
Custom Text