किसान

1
Read Time6Seconds

pushkar
एक उमर गुज़ारी है उसने,
एक वक़्त-सा है बीता वो।
कतरा-कतरा मोम हुआ,
ऐसे लम्हा-लम्हा जीता वो॥

बारिश में भीगा करता है,
पूस में पूरा ठिठुरा वो।
गर्मी की लू में जला किया,
ऐसे लम्हा-लम्हा जीता वो॥

भूखा भी सो जाता है,
कर्ज़े में पूरा डूबा वो।
गाली थप्पड़ है मिला किया,
ऐसे लम्हा-लम्हा जीता वो॥

दहलीज से उठती डोली में,
उसने बेटी को विदा किया।
ना जाने कैसे-कैसे उसने,
दहेज़ भी सारा अदा किया॥

डोली में उठती बेटी से,
इक और उधार में डूबा वो।
कर्ज़े में पुश्तें जिया किया,
ऐसे लम्हा-लम्हा जीता वो॥

खेत दरार से भरा हुआ,
औ माथ पकड़ के रोता वो।
भगवान भी मानो पत्थर हों,
बेकार में बीजें बोता वो॥

पिछले साल के कर्ज़े हैं,
क्या होगा ये ही रोता वो।
चिंता में रातें जगा किया,
ऐसे लम्हा-लम्हा जीता वो॥

साँसें रब से मिलती हैं,
औ सबको भोजन देता वो।
किसान है अपने भुजबल से,
मिट्टी को सोना करता वो॥

मटमैले कपड़ों के अंदर,
मेहनतकश काया रखता वो।
खेतों में घाम बहा किया,
ऐसे लम्हा-लम्हा जीता वो॥

खून रौद का खाता है,
श्रम की नींद सोता वो।
पूरा जीवन खेतों में रहा किया,
ऐसे लम्हा-लम्हा जीता वो॥

#पुष्कर कुमार ‘पुष्प’

परिचय : पुष्कर कुमार का साहित्यिक उपनाम-पुष्प है। जन्मतिथि-९ मार्च १९९२ और जन्म स्थान-ग्राम अम्बाजीत, जिला-हज़ारीबाग़ (झारखण्ड)है। वर्तमान में शहर हजारीबाग के यशवंत नगर में रहते हैं। आपने स्नातकोत्तर(अर्थशास्त्र) तक शिक्षा हासिल की है,और कार्यक्षेत्र-अध्यापक(अर्थशास्त्र,हिंदी) का है। लेखन विधा-दोहा,सोरठा,रोला,ग़ज़ल,मुक्तक एवं कविता है। पुष्कर कुमार ‘पुष्प’ ने कुछ समय पहले ही अपने विचारों को शब्दों में ढालना शुरू किया है। आपके लेखन का उद्देश्य-जनजागरण और हिंदी को विस्तार देना है।

0 0

matruadmin

One thought on “किसान

  1. पुष्प हजारीबाग के उभरते हुए रचनाकार हैं। खासकर ग़ज़ल और दोहे लिखने में इन्हें महारत हासिल है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सरस्वती वंदना

Tue Jan 23 , 2018
                        * माता तेरी वंदना को,आया एक बार फिर, हार गया खुद से तो लाया एक हार हूँ, मति भ्रष्ट हो गई है,गति अतिहीन हुई आस विश्वास ले के आया तेरे द्वार हूँ, काम-क्रोध-मद-लोभ,मन में बसे हैं आज शक्तिहीन […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।