स्वास्थ्य के प्रति कितने जिम्मेदार हम

Read Time5Seconds

devendr soni
मानव जीवन की सबसे बड़ी और अनदेखी पूंजी यदि कोई है तो वह है-हमारा स्वास्थ्यl अनदेखी इसलिए कहा,क्योंकि हम जब तक हम  बिस्तर न पकड़ लें या किसी रोग से गम्भीर रूप से ग्रसित न हो जाएं तब तक,कम-से-कम अपने स्वास्थ्य की चिंता तो नहीं ही करते हैं। हां,केवल अपने बच्चों की स्वास्थ्य समस्याओं के प्रति हम जरूर अधिक जिम्मेदार होते हैं।
स्वास्थ्य के सम्बन्ध में स्वामी विवेकानन्द जी ने कहा है-` तुम गीता का अध्य्यन करने के बजाए फुटबाल के जरिए स्वर्ग के अधिक निकट रहोगे`l आशय यह-अपने लक्ष्य के पीछे दौड़ो,मगर अपने स्वास्थ्य को पीछे मत छोड़ो। कितना सही कहा है स्वामी जी ने। इस संदर्भ में मुझे एक दृष्टांत याद आता है-एक व्यक्ति के मन में नगर सेठ कहलाने का भाव आया और उसने अपने इस विचार को अपना लक्ष्य बना लिया। दिन-रात अथक परिश्रम किया और वह नगर सेठ बन भी गया। उसकी वाहवाही होने लगी और वह आदरणीय हो गया,लेकिन इस अथक मेहनत के दौरान उसने अपने परिवार और स्वास्थ्य का बिलकुल भी ध्यान नहीं रखा। हुआ यह कि,असमय ही उसका शरीर शिथिल पड़ गया और कई लाइलाज बीमारियों का शिकार होकर अंततः चल बसा। उसकी सारी दौलत भी उसके काम न आ सकी। यदि वह अपने लक्ष्य को सेहत का ध्यान रखते हुए पाता,तो क्या वह असमय काल का शिकार होता ? बस अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत होने के लिए विवेकानन्द जी का वाक्य और यह दृष्टांत ही पर्याप्त है। समय रहते संभल जाएँ। जीवन के सारे उद्देश्य पूर्ण करें,किन्तु अपने स्वास्थय की अनदेखी न करें,क्योंकि हमारे अस्वस्थ होने के लिए कोई और नहीं,हम ही जिम्मेदार होते हैं। समझना तो होगा ही इसे।
वर्तमान में प्रत्येक व्यक्ति की जिंदगी भागम-भाग और अथक मानसिक तथा शारीरिक श्रम से जूझ रही है। घर के बड़ों को यदि बेहतर परिवार संचालन के लिए अपने स्वास्थ्य को दांव पर लगाना पड़ रहा है,तो बच्चों पर भी अपने भविष्य की सुदृढ़ता का मानसिक दवाब रहता है,जो कहीं-न-कहीं स्वास्थ्य को तो प्रभावित करता ही है। कई बार छोटी-मोटी स्वास्थ्य सम्बंधी परेशानियों को हम अनदेखा कर देते हैं,जो कालांतर में हमारे लिए बड़ी मुसीबत का कारण बनती है। इनसे समय रहते बचना चाहिए।
अच्छे स्वास्थ्य के जो जरूरी नियम बताए गए हैं,आज किसी भी कारण से हम उनका पालन नहीं कर पाते हैं। जिस अनुपात में खान-पान होना चाहिए,वह भी अब नहीं हो पाता है। हमारी दिनचर्या ने इसे पूरी तरह से अव्यवस्थित कर दिया है। बिगड़ते स्वास्थ्य के अनेक कारण होते हैं,यहां मैं उनकी चर्चा नहीं,क्योंकि आज यह सब जानकारियां हमारी अंगुलियों पर मोबाईल-कम्प्यूटर ने उपलब्ध करा दी हैl इसके बावजूद हम पढ़कर, जानकर भी उनका पालन नहीं करते हैं,जबकि यह अत्यंत जरूरी है।
कुल मिलाकर कह सकता हूँ कि-हमारे स्वास्थ्य का ध्यान हमको समय पर ही रखना चाहिए। इसके लिए कोई और नहीं,हम ही शत-प्रतिशत जिम्मेदार हैं।

                                          #देवेन्द्र सोनी

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

महिलाओं पर अत्याचार

Fri Dec 29 , 2017
दिल्ली में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार, बढ़ती घटनाओं को देखकर दुखी है दिल्ली सरकार। इन घटनाओं को रोकने एक नया, फार्मूला तैयार कर रही है सरकार। जो शुरु होने वाला है, ‘सम-विषम’ जैसा नियम बनने वाला है। कार्यक्रम कुछ इस तरह बनेगा, एक दिन। दिन में महिलाएं दिल्ली में […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।