लोग क्या कहेंगे ?

Read Time8Seconds

devendr soni
परिदृश्य चाहे वैश्विक हो,राष्ट्रीय हो,सामाजिक हो या पारिवारिक हो-कुछ भी करने से पहले यह प्रश्न हमेशा सालता है कि-`लोग क्या कहेंगे ?` उनकी क्या प्रतिक्रिया होगी और इसका हमारे मूल्यों,सिद्धान्तों और जीवन पर क्या असर पड़ेगा! चिन्तन का पहलू यह होना चाहिए-हमको लोगों के कहने की कितनी परवाह करना चाहिए,क्योंकि आप यदि अपने नजरिए से अच्छा भी करते हैं तो जरूरी नहीं कि,वह अन्य व्यक्तियों की नजर में भी अच्छा ही हो। सबका नजरिया अलग-अलग होता है। फिर,लोगों का तो काम ही है कहना!
यहां मुझे एक बोधकथा याद आ रही है-एक पिता-पुत्र ने मेले से खच्चर खरीदा और उसे लेकर घर की ओर निकले। रास्ते में किसी ने कहा-कैसा पिता है,खच्चर होते हुए भी बेटे को पैदल ले जा रहा है। पिता को भी लगा तो उसने अपने बेटे को खच्चर पर बैठा दिया और खुद पैदल चलने लगा। आगे चलने पर किसी ने कहा-कैसा बेटा है,बूढ़ा बाप पैदल चल रहा और जवान बेटा शान से सवारी कर रहा। अब दोनों ही खच्चर पर बैठ गए तो फिर किसी ने कहा-क्या लोग हैं,मरियल से खच्चर पर बैठकर जा रहे,खच्चर का जरा ध्यान नहीं है!
इस सन्दर्भ का तात्पर्य सिर्फ इतना ही बताना है कि, आप कुछ भी करें-लोग तो कहेंगे ही। निर्णय आपको करना है कि आप उसे कितनी तबज्जो देते हैं।
अनेक बार,बार-बार हमारे जीवन में ऐसे प्रसंग आते हैं जिनसे घबराकर हम चाहकर भी समयानुकूल उचित निर्णय नहीं ले पाते हैं और बाद में पछताते हैं। जरूरी है यहां अपने विवेक का इस्तेमाल करना। उदाहरण के तौर पर देखें तो शादियों में फिजूलखर्ची हम केवल दिखावे के लिए और `लोग क्या कहेंगे` के डर से ही करते हैं। अनेक अप्रासंगिक हो चुकी रूढ़ियों का निर्वहन भी इसी डर से करते हैं। परिवार में कोई यदि विजातीय विवाह करे तो-`लोग क्या कहेंगे` के डर से उसमें शामिल होने से या सहमति देने से कतराते हैं। मृत्यु भोज,दहेज,बेटियों को ज्यादा शिक्षा न देना,महिला-पुरुष की मित्रता आदि अनेक ऐसे ही उदाहरण हैं जो-`लोग क्या कहेंगे` ,के डर से हम मजबूरन करते हैं। मुझे यह स्वीकारने में कतई संकोच नहीं कि,इस भयावह स्थिति का मैं भी हिस्सा बना हूँ। आज जरूरत है इस भय से मुक्त होने की,विवेक सम्मत निर्णय लेने की।
अंत में एक बात और कहना चाहूंगा-`लोग क्या कहेंगे` का भय हमको कई बार या अक्सर अच्छे रास्ते पर भी चलने को प्रेरित करता है। विषम स्थितियों से बचाता है,लेकिन यह हमारे विवेक पर ही निर्भर करता है। इसलिए,लोगों के कहने की 
भयरहित होकर उतनी ही परवाह करें,जितना हमारा विवेक अनुमति दे।

यहां मैं इसी विषय पर अपनी कविता भी प्रस्तुत कर रहा हूँ,-कोई क्या कहेगा-

पूरी जिंदगी
परवाह करते हैं हम
इस बात की-
कि-कोई क्या कहेगा !

खो देते हैं इससे
वे कई पल और खुशियां
जिनसे संवर सकता था
और अधिक
घर-संसार,व्यवहार हमारा।

इस एक दंश से
मुरझा जाते हैं,कभी-कभी
बेटे और बेटियों के भविष्य
या कई दफा,सपने भी हमारे।

देखते और सोचते हैं
अक्सर ही हम,इसी रूप में
इस प्रश्न को
पर मेरी नजर में-होता है,
एक पहलू और भी इसका।

बचाता है यही डर,बार-बार
अनेक अप्रिय स्थितियों से भी हमको।

सोचें,तो मिलेगा उत्तर यही
सिक्के के दो पहलू की तरह ही है
परिणाम भी इसके।

कभी बचाता है तो कभी
डुबाता भी है प्रश्न यह-
कि-कोई क्या कहेगा ?

समझकर इसे-
लें अपने विवेक का सहारा
और करें वही-
जिसके सुखद हों परिणाम
घर-संसार और व्यवहार में हमारे।

फिर इतना ही कहूंगा-यदि जरूरी है लोगों के कहने की परवाह करना तो उतनी ही करें जितनी अनुमति आपका विवेक दे। 
                                         #देवेन्द्र सोनी
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

एक खत 'माँ' के नाम...

Sat Dec 16 , 2017
••••प्यारी माँ, खत में क्या लिखूँ ? कैसे लिखूँ कब लिखूँ ! किसके लिए लिखूँ सोंचती रही बहुत देर तक जिन्दगी तेरे लिए, या दोस्तों के लिए या देश या समाज के नाम, या अपने आदरणीय गुरूजनों के लिए, और भी बहुत कुछ याद आया बहुत सोचा, पर कुछ समझ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।