जुगनूं से मिलने तो…

1
0 0
Read Time1 Minute, 4 Second
prabhat kumar
घूम लो गाँव,खेत-खलिहान…,
लौटकर घर ही तो आओगे।
शहर की चकाचौंध में रह लो…,
जुगनूं से मिलने तो आओगे।
पंखे,एसी का आराम ले लो…,
एक दिन तो सड़क पर आओगे।
पेड़ों  की शाखाएं तोड़ डालो…,
चिता पर लकड़ी न पाओगे।
अवरोध रास्तों पर तो होंगे ही…,
रोज चलोगे तो सुकून पाओगे।
पोखरे को पाट के नींव रख ली…,
अब गारे का पानी न पाओगे।
जिंदगी में जो भी कुछ मिला…,
संतोष करो तो खुशी पाओगे।
घूम लो गाँव,खेत-खलिहान…,
लौटकर घर ही तो आओगे॥
                                                                                   #प्रभात कुमार 
परिचय : प्रभात कुमार ब्लॉग पर भी हिन्दी में लिखते हैं। आप मूल रुप से उत्तर प्रदेश के बेलवाडाड,कलवारी(जिला बस्ती) के हैं। २७ बरस के श्री कुमार दिल्ली में एक चिकित्सा संस्थान में शोध अध्येता हैं। 

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

One thought on “जुगनूं से मिलने तो…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Editor's policies and steps of his focus on producing technological annotation

Thu Jul 6 , 2017
Editor’s policies and steps of his focus on producing technological annotation The idea of annotation and development its style of music The abstract is an integral part from the book version. Post Views: 1,054

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।