जीवन संघर्ष-प्रतिस्पर्धा

0 0
Read Time2 Minute, 57 Second
deelip sinh
सर्दी-गरमी व वर्षा से, 
क्या घबराना,क्या घबराना ?
नव अंकुर से नए विहग से, 
सीखें शीश उठाना।
एक बीज जब घर से बाहर,
खेतों में बोया जाता।
संगी साथी साथ न होते, 
निपट अकेला हो जाता।
नमी और गर्मी पाकर के,
बीज प्रफुल्लित हो जाता।
बीज चोल का तोड़ आवरण,
नव अंकुर तब शीश उठाता।
तब ऊँचा आकाश उसी का,
शीश चूमता दीवाना।
नव अंकुर से नए विहग से,
सीखें शीश…ll 
अपनी जड़ें जमाकर गहरी,
धरती से पानी लेता।
लेता वायु वायुमण्डल से,
उल्टे हवा सुहानी देता।
झूम-झूमकर नित मस्ती में,
रंग धरती को धानी देता।
नव अंकुर वट वृक्ष बन गया,
जो धरती का छोटा बेटा।
झूम-झूमकर हमें सिखाता,
फूलों-सा मुस्काना।
नव अंकुर से नए विहग से, 
सीखें शीश…ll 
प्यारा-सा नव विहग एक खग,
निकल घोंसले से आता।
देख हवा का अधिक तेज रुख,
पहले थोड़ा-सा घबराता।
फिर हल्का-सा पंख खोलकर, 
फुदक-फुदक कर अजमाता।
छोट-छोटी कठिन उड़ानें,
उड़ता उड़कर फिर गिर जाता।
मगर एक दिन वही नव विहग,
खूब समझता उड़ जाना।
नव अंकुर से नए विहग से,
सीखें शीश…ll 
घर से बाहर जिस दिन पहला,
कदम आपका पड़ता है।
घबराहट-सी मन में होती,
मन जाने क्यूं डरता है।
माँ का आँचल गोद पिता की,
न तजने का मन करता है।
पर बाहर इस वृहद धरा पर, 
ही निज भाग्य संवरता है।
कुछ पाने की खातिर कुछ सुख,
पड़ता हमें गँवाना।
नव अंकुर से नए विहग से,
सीखें शीश…ll 
एक-एक दाने से देखो,
उगती फसल करारी है।
एक-एक खग निकल धरा पर,
करते मारा-मारी है।
इक-दूजे से लड़ना हो जाती,
तब इनकी लाचारी है।
है जीवन संघर्ष यही प्रिय,
लड़िए जीत तुम्हारी है।
यही प्रतिस्पर्धा है प्यारे,
तुमको यही बताना।
नव अंकुर से नए विहग से,
सीखें,सीखें शीश उठाना।
यह जीवन संघर्ष उचित है,
न इसमें घबराओ तुमl 
सम्बल रहे सत्य का हरदम,
अनुचित न अपनाओ तुमl 
रहे भरोसा खुद पर हरदम,
खुलकर यार बनाओ तुमl 
नहीं शत्रु है कोई तुम्हारा,
प्रेम से बाहर जाओ तुमl 
देकर प्यार,प्यार मिलता है,
यह विश्वास जगाना।
नव अंकुर से नए विहग से,
सीखो शीश उठानाll 
#दिलीप सिंह ‘डीके’

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आठवीं अनुसूची और हिंदी के मुद्दे पर गृहमंत्री से मिले साहित्यकारगण

Tue Dec 12 , 2017
 मुंबईl संविधान की आठवीं अनुसूची और हिंदी के मुद्दे पर गृहमंत्री राजनाथसिंह से प्रतिनिधि मंडल ने मुलाकात की। इसका नेतृत्व श्याम परांडे(महासचिव अंतरराष्ट्रीय सहयोग परिषद) ने कियाl उनके साथ पूर्व राजदूत वीरेंद्र गुप्ता,वरिष्ठ साहित्यकार डॉ.अशोक चक्रधर एवं डॉ.राकेश पांडेय आदि रहे। गृहमंत्री से देश की भाषाई अखंडता पर चर्चा हुई और […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।