कलंक

Read Time3Seconds
ishwar dayal
कमाया,
ठीक कमाया
और बहुत
कमाया;
नाम भी, धन भी।
अपनी कला से,
किया लोगों का
मनोरंजन भी।
नगर-नगर
गलियों-गलियों,
में खूब
मचाई धूम।
पुरस्कारों से
सजा, तुम्हारे
घर का
ड्राइंग-रुम।
अब तुम
अपने-आप को
समझ बैठे
सरताज़।
वक्त़ को ही
मान बैठे
तुम, अपना
ही दास।
वक्त़ ने बदली
जो, करवट।
हुआ एक
सुंदर विस्फोट।
नज़र आई
अब लोगों को,
केवल तुम में
खोट ही खोट।
पुन: तऱाशा
गया तुम्हें जो,
निकला बस
‘कचरे का ढेर।’
छी:-छी: करती
जनता तुमसे।
कचरे से जो
निकली गंध,
नाक बंद कर
सबने थूका।
पोस्टरों और चित्रों
को, लोगों ने
अग्नि में फूँका।
वातावरण
हुआ सब दूषित।
हुए आप जो
आज कलंकित।
क्यों? ………
क्यों ?………
क्योंकि-
साधन के ही
तुम साधक थे।
स्वार्थ के तुम
आराधक थे॥
                                                               #ईश्वर दयाल गोस्वामी
परिचय: ईश्वर दयाल गोस्वामी पेशे से शिक्षक हैं। आप कवि होने के साथ ही भागवत कथा भी बांचते हैं। जन्म तिथि- ५ फरवरी १९७१ तथा जन्म स्थान- रहली है। हिन्दी सहित बुंदेली भाषा में भी २५ वर्ष से काव्य रचना जारी है तो, आपकी कविताएँ समाचार पत्रों व पत्रिकाओं में भी प्रकाशित होती हैं। काव्य संग्रह ‘संवाद शीर्षक से’ प्रकाशनाधीन है। मध्यप्रदेश के सागर जिले की तहसील रहली के ग्राम छारी में बसे हुए श्री गोस्वामी की रुचि-काव्य रचना के अलावा अभिनय में भी है। आपको समकालीन कविता के लिए राज्य शिक्षा केन्द्र(भोपाल) द्वारा २०१३ में राज्य स्तरीय पुरस्कार दिया गया है। साथ ही नई दिल्ली द्वारा रमेश दत्त दुबे युवा कवि सम्मान भी प्राप्त किया है।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मां का प्यार

Wed Aug 30 , 2017
वो उसका वास्ता देकर आज भी मुस्कराते हैं, दोस्त हैं अपने,कसम से आज भी सताते हैं, इसमें भी प्यार छुपा है इन यारों का, आंसू भी खुद ही देते हैं और मरहम भी खुद ही लगाते हैं॥ यादों का क्या है  हरदम सताती है। माँ की या महबूबा की,दोनों रुलाती […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।