मेरे दिल की एक आरजू…

Read Time6Seconds

manoj-samariya-300x213

मेरे दिल की एक आरजू,

तेरे दिल में बस जाऊं मैं।

तेरे दिल में बस जाऊं मैं…l

भेष बदलकर आता रहूँ मैं,

हर उत्सव में शामिल होने।

देकर अपनी सारी खुशियाँ

तेरा घर महकाऊं मैं…ll

पतझड़ का मौसम आए तो,

छाया बनकर छा जाऊं मैं।

सूनापन गर लगे तुझे तो,

ग़ज़लें बनकर आँधी जाऊं मैं।

मेरे दिल की एक आरजू…ll

 

तेरे दिल की हर दीवार पर,

तस्वीरें खूब सजाऊं मैं।

आँगन में तेरे आकर,

रंगोली नेक बनाऊं मैं ll

बाहुपाश में तुझे झुलाकर,

तेरा दिल बहलाऊं मैं।

प्रीत करूँ तुझसे ऐसी,

प्रियतम तेरा कहलाऊं मैं ll

मेरे दिल की एक आरजू…l

रंग-बिरंगी कलियाँ सीकर,

प्रीत सेज की सजाऊं मैं।

कंचन कामुकमय मूरत को,

निज नयनों में बसाऊं मैं ll

मादकता लहराते आँचल की,

निज साँसों में बसाऊं मैं।

तुझे नजर लगे न इस दुनिया की,

`मनु` काजल बनकर सज जाऊं मैं l

मेरे दिल की एक आरजू…ll

झीने-झीने पट में जब तू,

हौले-हौले मुस्काती है।

अंग-प्रत्यंग तेरा कम्पन करता,

आलिंगन में जब आती है।

मुस्कान सजाए तेरे लबों की,

एक तराना बन जाऊं मैं…ll

देकर अपनी सांसें तुझको,

जीने का बहाना बन जाऊं मैं…

मेरे दिल की एक आरजू

तेरे दिल में बस जाऊं मैं…ll

                                                             #मनोज कुमार सामरिया ‘मनु'

परिचय : मनोज कुमार सामरिया  `मनु` का जन्म १९८५ में  लिसाड़िया( सीकर) में हुआ हैl आप जयपुर के मुरलीपुरा में रहते हैंl बीएड के साथ ही स्नातकोत्तर (हिन्दी साहित्य ) तथा `नेट`(हिन्दी साहित्य) भी किया हुआ हैl करीब सात वर्ष से हिन्दी साहित्य के शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं और मंच संचालन भी करते हैंl लगातार कविता लेखन के साथ ही सामाजिक सरोकारों से जुड़े लेख,वीर रस एंव श्रृंगार रस प्रधान रचनाओं का लेखन भी करते हैंl आपकी रचनाएं कई माध्यम में प्रकाशित होती रहती हैं।
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

एक ही नेता महान

Sat Aug 26 , 2017
बात-बात पर माईक पकड़ कर रोता कौन परिंदा, मगरमच्छ हक्का-बक्का  देख हुआ बहुत शर्मिंदा। सेवक बता खुद को  जा विदेशों में मौज करते, आए दिन कह मन की बात जनता को ठगते। विदेश मंत्री भ्रम  में, करुं या न करुं शंका, तैयारी मैं करुं, पहुंचते हैं ये अमेरिका या श्रीलंका। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।