बड़े सितारों की साधारण फिल्म ‘ओके जानू’

Read Time4Seconds

डॉ प्रकाश हिन्दुस्तानी

यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार, चित्र आदि का, संपूर्ण उत्तरदायित्व इस लेख के लेखक/लेखकों का है, मातृभाषा.कॉम का नहीं।

ओके जानूबड़े सितारों की साधारण फिल्म है। मणि रत्नम की तमिल फिल्म ओके कलमनी का यह हिन्दी रीमैक है। गुलजार के गाने, एआर रहमान का संगीत, निर्माता की जगह मणि रत्नम का नाम, कलाकारों में नसीरुद्दीन शाह, लीला सेमसेन, कीट्टू गिडवाणी के साथ ही आदित्य रॉय कपूर और श्रद्धा कपूर का अभिनय, अरिजीत सिंह का गायन आदि होने के बाद भी फिल्म औसत ही कहीं जाएगी। मल्टीप्लेक्स आने वाले दर्शकों को ध्यान में रखकर बनाई गई इस फिल्म को महानगर के युवा वर्ग द्वारा पसंद किया जाएगा, हालांकि इसमें कोई नवीनता नहीं है।

आशिकी-2 की जोड़ी इस फिल्म में है, क्योंकि वरुण धवन और आलिया भट्ट के पास इस फिल्म को करने का वक्त नहीं था। आदित्य और श्रद्धा ने फिल्म में अच्छा अभिनय करने की कोशिश की है, लेकिन नसीरुद्दीन शाह और लीला सेमसन का मुकाबला वे नहीं कर पाए। निर्देशक ने इस बात को सोचकर कि शहरी उच्च और उच्च मध्यवर्ग के दर्शक क्या चाहते हैं, इस फिल्म की स्क्रिप्ट लिखी है। सारे दृश्य वैसे ही तैयार किए गए है, जो एक खास वर्ग के लोगों को पसंद आए। प्रेम, शादी के नाम पर भागना, लिव-इन-रिलेशनशिप को प्राथमिकता, शास्त्रीय संगीत वालों को पिछड़ा समझना, वरिष्ठ नागरिकों को सनकी दिखाने जैसे दृश्यों के साथ ही इमोशनल मसाला डाल दिया गया है।

संगीत के नाम पर ओके करमनी के ही तीन गानों का संगीत जस का तस इस फिल्म में है। केवल दो गाने एआर रहमान ने अलग से तैयार किए है। आदित्य रॉय कपूर और श्रद्धा कपूर इश्क करते है, तो हिसाब-किताब लगाकर। उनके इश्क में न तो कोई इमोशन झलकता है, न रोमांस। ऐसा लगता है, मानो वो मशीन की तरह अभिनय कर रहे हो।

हीरो-हीरोइन दोनों पेशेवर लोग है, हीरो का सपना अमेरिका जाना है और हीरोइन का पेरिस। महानगरीय दिखाने के बहाने हीरोइन के माता-पिता का विलगाव दिखाया गया है और उत्तरप्रदेश मूल के हीरो के परिवार को दकियानूस टाइप। फिल्मों में हीरो-हीरोइन जैसे घरों में पेइंग गेस्ट रहते हैं। वैसे घर बंबई में कितने लोग अफोर्ड कर पाते होंगे, यह भी सोचने की बात है। कुल मिलाकर प्रेम कहानी में प्रेम कम नजर आता है और जबरदस्ती बनाई हुई कहानी ज्यादा।

ओके करमनी केवल 16 करोड़ के बजट में बनी थी और दक्षिण भारत में ही इसने 28 करोड़ का बिजनेस किया था। सुपरस्टार ममूटी के बेटे ने इसमें हीरो की भूमिका निभाई थी। मणि रत्नम ने इसके हिन्दी वर्जन के लिए शाद अली को जिम्मेदारी थी। मसाला डालने के चक्कर में शाद अली ने इसमें हम्मा-हम्मा और इन्ना सोना गानों का रीमैक भी डाल दिया। हम्मा-हम्मा तो छिछोरे अंदाज में फिल्माया गया है।

फिल्म में सबकुछ है, लेकिन आत्मा की कमी है। कोई कहानी प्रेम कहानी कैसे हो सकती है, अगर उसके मुख्य पात्र तय कर लें कि वो प्रेम तो करेंगे, लेकिन इमोशनल नहीं होंगे। फिल्म शुरू होते-होते लिव-इन में रहने और कभी न शादी नहीं करने का संकल्प करने वाला कपल फिल्म खत्म होते-होते शादी कर लेता है। नए जमाने के हिसाब से हीरो को कम्प्यूटर गेम्स डेवलपर और हीरोइन को आर्किटेक्ट दिखाया गया है। बाकी सभी पात्र पुराने जमाने के है, वैसे ही जिद्दी, अनगढ़ और भकुआ। अगर कुछ करने को नहीं हो और पैसे व वक्त खर्च करना हो, तो यह फिल्म देखी जा सकती है।

लेखक परिचय: हिन्दी के पहले वेब पोर्टल ‘वेबदुनिया’ के पहले सम्पादक एवम् ब्लागर वरिष्ठ पत्रकार है|Website: http://prakashhindustani.com/

 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हर रिटायरमेंट का आनंद लें...

Mon Jan 23 , 2017
श्रीमती माला महेंद्र सिंह, (एम एस सी, एम बी ए, बी जे एम सी) अनिरुद्ध जी की प्रशासनिक सेवाएं कल समाप्त होने जा रही है। जीवन के साठ वसंत देखने के साथ जीवन के हर खट्टे-मीठे अनुभव का स्वाद चखने का अपना अलग ही आनन्द है। ये ही उनकी फिलोसॉफी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।