हादसे का सफर

1
Read Time7Seconds

विजयानंद विजय

उस दिन मेरी तबीयत ठीक नहीं थी।मगर काम ऐसा था कि उसी दिन जाना भी अत्यावश्यक व अपरिहार्य था।अनमने भाव से मित्र के साथ शाम छः बजे बस स्टैंड आया।राँची के लिए एक आखिरी बस थी।कंडक्टर केबिन में सीट दे रहा था।लेकिन जब हमने केबिन में बैठने से इंकार किया,तो उसने पिछले गेट से पहले वाली सीटें दीं।सड़क उन दिनों बहुत खराब थी और मरम्मत का काम भी चल रहा था।इसलिए बस बुरी तरह हिचकोले खाते हुए चल रही थी।डर लग रहा था कि कही बस उलट न जाए।धूल उड़ रही थी, सो अलग।
रात नौ बजे के करीब एक लाइन होटल पर बस रुकी।वहाँ खाने की अच्छी व्यवस्था थी।सबने खाना खाया।खाने के बाद कुछ लोग बस की छत पर सोने चले गये।छत पर चावल-गेहूँ के बोरे भी रखे हुए थे।रात में सड़क खाली थी।इसलिए बस पूरे रफ्तार से चली जा रही थी।सामने टी वी पर कोई फिल्म चल रही थी।अधिकांश यात्री सोने लगे थे।मेरे मित्र की भी आंख लग गयी थी।मुझे नींद नहीं आ रही थी – सो, कभी टी वी की ओर, तो कभी खिड़की से बाहर खिली चांदनी रात को निहार रहा था।सामने वाली तीन सीटों पर तीन महिलाएं बैठी थीं,जिनके साथ चार छोटे-छोटे बच्चे भी थे।सभी गहरी नींद में थे।बस करीब ढाई-तीन घंटे चल चुकी थी।मैंने घड़ी देखी – रात के बारह बज रहे थे।अचानक ” खट-खटाक ” की आवाज के साथ तेज झटका लगा,और बस रुक गयी।इस झटके से सभी यात्री जग गये।मैंने खिड़की से देखा – बस पुल पर थी, और आधी सड़क ,आधी पुल से लटकी हुई थी।नीचे सूखी नदी थी।चाँदनी रात में मैंने देखा – नदी के पत्थरों पर गेहूँ-चावल के बोरों के साथ अनेकों लोग गिरे – बिखरे – पड़े थे – खून से लथपथ!बस के अंदर चीख-पुकार मच गयी थी।बस का केबिन और अगला गेट बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुका था।भयावह दृश्य था।जहाँ हमारी सीट थी,बस वही हिस्सा सड़क पर अटका हुआ था।इसलिए,सभी यात्री इसी जगह आ गये थे।मैंने घबराकर बगल में बैठे मित्र को टटोला और जोर से चिल्लाया-” कृष्णा?” तो उनके शरीर में हलचल हुई।फिर मैंने लोगों से कहा- ” आपलोग हिलना-डुलना मत।हम सुरक्षित हैं।” तभी उन तीनों महिलाओं की कातर ध्वनि सुनाई पड़ी ” मेरे बच्चे!कहाँ गये?” चारों बच्चे सरककर हमारी सीटों के नीचे आ गये थे।कृष्णा ने हाथ सीट से नीचे डाला और एक-एक कर चारों बच्चों को बाहर निकाला।संयोग से चारों बच्चे सुरक्षित थे।फिर मैंने तीनों महिलाओं की सीट से लगी, सड़क की ओर वाली खिड़की पर जोर से लात मारकर शीशा तोड़ा।तब तक बाहर सड़क पर लोग जुट गये थे।सबसे पहले हमने एक-एक कर उन तीनों महिलाओं को बच्चों के साथ बाहर निकाला।फिर बस में सवार करीब चालीस-पैंतालीस यात्रियों को खिड़की के रास्ते सुरक्षित बाहर भेजा गया, और आखिर में हम दोनों बाहर निकले।हमारे बाहर आते ही, बस नदी में पलट गयी।सभी स्तब्ध – अवाक् रह गये।मौत हमें छू कर निकल गयी थी।न जाने किस दैवीय शक्ति ने हमें बचा लिया था।हम ईश्वर को धन्यवाद दे रहे थे – सचमुच मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है।अपने परिवार के साथ मेरी बगल में खड़े एक बुजुर्ग सहयात्री मुझे पकड़कर रोने लगे।
वर्षों बीतने के बाद ,आज भी जब जाने-अनजाने वह खौफनाक मंजर स्मृतियों में कौंधता है,तो रोम-रोम सिहर उठता है।मौत की राह से निकली जिंदगी के वे पल याद आते हैं।गर्व की भी अनुभूति होती है कि ईश्वर ने कितनी जिंदगियाँ बचाने का हमें माध्यम बनाया।

लेखक परिचय : लेखक विजयानंद विजय बक्सर (बिहार)से बतौर स्वतंत्र लेखक होने के साथ-साथ लेखन में भी सक्रिय है |

0 0

matruadmin

One thought on “हादसे का सफर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

प्रेम

Wed Jan 18 , 2017
हर्षवर्धन प्रकाश रिश्तों में अकेली स्त्रियां बांटती हैं प्रेम;  ढूंढती हैं प्रेम। रिश्तों में अकेली स्त्रियां चाहती हैं  एक लम्हा छांह; एक लम्हा वक़्त; एक लम्हा प्रेम। (हर्षवर्धन प्रकाश) कवि परिचय : हर्षवर्धन प्रकाश इंदौर (मध्यप्रदेश) – भोपाल के माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय से एम.एस-सी (इलेक्ट्रॉनिक मीडिया) […]
harshwardhanprakash

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।