सुनेगी क्या कभी…

0 0
Read Time1 Minute, 10 Second

shashi ranjana
सुनेगी क्या कभी दरकार अपनी,
हमीं से जो बनी सरकार अपनी।

चमन में लौट आई फिर बहारें,
बचाकर जान भागे खार अपनी।

दिखाई है हमें औकात उसने,
करेंगे हद नहीं अब पार अपनी।

खिलाएं क्या,भरण कैसे करें अब,
जो मारे कीमतें भी मार अपनी।

न कोई आरज़ू ही रब से है अब,
बनी नीरस ज़िन्दगी भार अपनी।

समय जो साथ बीते प्यार से ही,
न हो उनमें कभी तकरार अपनी।

मिलें न गीत कोई अब लिखूँ क्या,
कलम कबसे पड़ी बेज़ार अपनी।

#शशिरंजना शर्मा ‘गीत’

परिचय : शशिरंजना शर्मा अपनी लेखनी ‘गीत’ से अभिव्यक्त करती हैंl। १९७० में जन्म होने के बाद आपने एम.ए.(हिन्दी और अंग्रेजी) के साथ ही बी.एड. तथा चाइल्ड साइक्लोजी में स्नातक की उपाधि प्राप्त की है। आपका निवास हरियाणा के फरीदाबाद में है और अभिरुचि लेखन के साथ ही अध्यापन एवं संगीत सुनने में है।

matruadmin

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

दर्द के गीत गुनगुनाने दो

Sat Jun 17 , 2017
  मुझको थोड़ा-सा मुस्कराने दो, दर्द के गीत———- मैं भी जिन्दा हूँ अभी महफिल में दिल को थोड़ा-सा बहल जाने दो, दर्द के गीत———-।   इक तस्वीर है ठहरी-ठहरी, मुझको पूरा उसे बनाने दो दर्द के गीत———–।   मैं बेवफा को खुदा कहता हूँ, उसकी यादों में डूब जाने दो […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

आपका जन्म 29 अप्रैल 1989 को सेंधवा, मध्यप्रदेश में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर हुआ। आपका पैतृक घर धार जिले की कुक्षी तहसील में है। आप कम्प्यूटर साइंस विषय से बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कम्प्यूटर साइंस) में स्नातक होने के साथ आपने एमबीए किया तथा एम.जे. एम सी की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। आपने अब तक 8 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया है, जिसमें से 2 पुस्तकें पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध हैं। मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मातृभाषा डॉट कॉम, साहित्यग्राम पत्रिका के संपादक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश ही नहीं अपितु देशभर में हिन्दी भाषा के प्रचार, प्रसार और विस्तार के लिए निरंतर कार्यरत हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 21 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण उन्हें वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया। इसके अलावा आप सॉफ़्टवेयर कम्पनी सेन्स टेक्नोलॉजीस के सीईओ हैं और ख़बर हलचल न्यूज़ के संस्थापक व प्रधान संपादक हैं। हॉल ही में साहित्य अकादमी, मध्य प्रदेश शासन संस्कृति परिषद्, संस्कृति विभाग द्वारा डॉ. अर्पण जैन 'अविचल' को वर्ष 2020 के लिए फ़ेसबुक/ब्लॉग/नेट (पेज) हेतु अखिल भारतीय नारद मुनि पुरस्कार से अलंकृत किया गया है।