माँ वात्सल्यमई

0 0
Read Time1 Minute, 3 Second

माँ का जब भी लिया नाम
मिल गए तभी चारों धाम
माँ ही प्रभु माँ ही भगवन
माँ तुझे करते नमन वंदन।

माँ कभी लगे धूप छाँव सी पहेली
माँ कभी पाठशाला अलबेली सी
माँ कभी डांटे तो कभी पुकारती
माँ जीवन मूल्य का पाठ पढ़ाती।

माँ की लोरी सरिता सी कल कल
माँ की ममता गंगा सी पावन निर्मल
माँ ने दी सौगात संस्कृति और संस्कार
माँ की थपकी भरे जीवन में नव संचार।

माँ तेरी बातें गीता का सार
माँ तू सुनाए वेद और पुराण
माँ तू गायत्री मंत्र का करे जाप
माँ तू पाठ करें नित रामायण ।

माँ का मातृत्व अनोखा आनंदमई
माँ कौशल्या सी ममतामई अनुरागी
माँ स्नेह की अंजुरी सींचती सी लगे
माँ का आंचल प्यार से दुलार करे।

#डॉ अंजुल कंसल “कनुप्रिया”

matruadmin

Next Post

देश मेरे ! तुम नहीं हो जनसमूही शोर केवल

Fri May 27 , 2022
राष्ट्र की सम्पूर्ण संकल्पना, उसके होने का मतलब, उसकी कार्ययोजना, उसकी संस्कृति, उसकी भाषा, लोकव्यवहार और आचरण सबकुछ उसके निवासियों की जागृत मेधा से उन्नत है। और इन्हीं की चिंता और संगठनात्मक परिचय से मिलकर शब्द बनता है राष्ट्रवाद । राष्ट्रवाद शब्द में पहले पायदान पर राष्ट्र आता है, उसके […]
arpan jain avichal

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।