श्रीराम कृष्ण मिले

1 0
Read Time2 Minute, 9 Second

चलते चलते मुझे
श्रीराम मिल गये ।
चलते चलते मुझे
श्रीकृष्ण मिल गये ।
बातों ही बातों में
वो पूछने लगे।
क्या करते हो तुम?
मैने कहाँ की मैं
एक कवि हूँ जी।
सुनकर दोनो जन
जोर से हंस पड़े।
मैने पूछा उनसे
क्या हो गया जी।
कहने वो लगे
डरते है कवियों से।
मैने कहाँ जी
क्यों डरते हो?
कवि भी तो
एक इंसान है।
फिर इंसान से
भला क्यों डरते हो।
वो कहने लगे
कवि वो होता है।
जहां पहुंचे न रवि
वहाँ कवि पहुंच जाता है।
फिर हर बात का, विश्लेषण करके
लोगों को सुनता है।
इसलिए हम भी
डरते है उससे।
मैने कहाँ क्या
कवि झूठ लिखता है।।

वो बोले क्या जरा सुनोगे तुम सब:-
मैं श्रीराम हूँ
जिसको तुम सबजन
कहते हो मर्यादा पुरुषोत्तम।
पर क्या मेरे नाम को
सार्थक तुम लोग कर रहे?
कुछ तो बोलो
पृथ्वी के वसन्दे।
कोई उत्तर हमें
नहीं मिला उनसे ।
इसलिए मैं कहता हूँ सदा
मत करो बदनाम
मेरे नाम को तुम।
छोड़ दो मुझे
मेरे ही हाल पर।
हिंसा के बीज मत
वोओं मेरे नाम पर।
अपनी स्वार्थ के लिए
कुछ भी किये जा रहे।
हे कवि वर मुझे
तुम बचा लीजिए।
और जन जन तक
मेरा सही संदेश
तुम पहुंचा दीजिये।
में समझ गया
श्रीराम श्रीकृष्ण का दर्द।
और लिख दिया मैनें
मानो तो में भगवान
जानो तो भगवान
आस्था ही बची है
मन में लोगों के
पर दिलमें नहीं है
अब मर्यादापुरुषोत्तम राम।।
सोते सोते ही छोड़ गये
हमें बीच में ही भगवान।
और हो गई सुबह
ये सब देखते ही देखते।
दे गये कुछ प्रश्न जिनके उत्तर हम आपको देना हैं।।

जय जिनेन्द्र देव
संजय जैन (मुम्बई)

matruadmin

Next Post

महासागर

Mon Jun 7 , 2021
महासागर की लहरों ने क्या जादू किया, देख इसे डोले देखो मेरा जिया। अदाओं से अपनी दिल मेरा लिया, सागर की …….. ऊँची ऊँची लहरे जब उठती हैं, मन को बड़ा हर्षाए। करके इशारे मीठे मीठे प्यारे, हमको पास बुलाए। पल में चुरा ले ये सबका जिया, सागर की……… हमने […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।