खुद को बदलो

0 0
Read Time30 Second

वृक्ष ज्यों ज्यों घटते गए
परिवार आपस में बंटते गए
जेबो मे धन तो बढ़ता गया
नियत बेईमान बनाता गया
कागजी पढ़ाई ही पढ़ते गए
चरित्र को अपने खोते रहे
वाणी मिठास खोती रही
मधुमय बीमारी बढ़ती गई
कैसा कलियुग यह आया
राम को भूले याद रही माया
अभी समय है खुद को बदलो
2021 अब सफ़ल कर लो।
#श्रीगोपाल नारसन

matruadmin

Next Post

नए साल का किसान

Thu Dec 31 , 2020
नए साल का है आगमन, खुशियां मना रहा सारा जहान है! मेरे देश का दुर्भाग्य देखो, सड़क पर बैठा आज किसान है!! अपना हक पाने के लिए, देख रोड़ पर आया अन्नदाता है! वो राजनेता ही जवाब दे, जो इनका उगाया नही खाता है! गर्मी हो सर्दी हो या हो […]

पसंदीदा साहित्य

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।