रावण दहन

Read Time0Seconds

हर बार दशहरे पर हम सब,
क्यों रावण का पुतला फूंके।
अपने अंदर के रावण को ,
क्यों हम सब मिलकर ना फूंके।

साधुओं के भेष में कुछ,
मक्कार हमें नित छल जाएं।
भगवा धारी रावण को हम,
आओ आज सबक सिखाएं।

लगा के टोपी नेता सारे,
जनता को मूर्ख बनाते हैं ।
गरीबों के खून पसीने की ,
कमाई पर एश उड़ाते हैं।

धर्म की आड़ में धर्माचारी,
मजाक धर्म का बनाते हैं।
पर्दा डाल कर भक्ति का,
सरेआम रास रचाते हैं।

अंग व्यापार का गोरखधंधा,
कुछ रावण मिलकर चलाते हैं।
देश की मां, बेटी ,बहनों की,
इज्जत मिट्टी में मिलाते हैं।

दवाएं हो रही कितनी महंगी,
महंगे हो रहे डॉक्टर भी।
लालच ,स्वार्थ,कपटता से,
खुद बीमार हुए हैं डॉक्टर भी।

दाम बढ़े हैं राशन के,
बिजली पानी का दम बढ़ा।
भरे पेट अब कैसे बताओ,
गरीबी में परिवारों का।

रक्षक ही बन गए हैं भक्षक,
अब कौन करे पहरेदारी।
निर्दोषों को पड़ते डंडे,
और दोषी करे अय्याशी।

दुनियां के हर कोने में,
मिल जाएंगे रावण ये।
आस्तीन के सांप के जैसे,
रावण ये फुंकार भरे।

रावण का पुतला मत फूंको,
अब बुराइयों का संहार करो।
चोरी ,लालच, क्रोध , कपटता,
पर हमसब आज प्रहार करें।

अपने अंदर के रावण का,
आओ हम सब दहन करें।
पुरुषोत्तम रामचन्द्र जी को,
आओ हम सब नमन करें।

सपना का बस यही है सपना,
सच्चाई की जीत सदा हो।
जन जन के हृदय में सदा ही,
करुणा ,प्रेम, दया की जय हो।

रचना
सपना (स०अ०)
प्रा ०वि ० उजीतीपुर
जनपद औरैया

0 0

matruadmin

Next Post

क्या हाथी को फिर नए महावत की तलाश!

Thu Oct 29 , 2020
वाह रे सियासत सब कुछ निजी स्वार्थ और सत्ता सुख पर ही निर्भर हो चला है। अब किसी भी राजनीतिक पार्टी का कोई सिद्धान्त नहीं रहा। यदि विचार धारा की बात की जाए तो परिस्थिति के अनुसार विचार धारा से भी समझौता होना कोई नई बात नहीं है। राजनीति में […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।