बचपन

Read Time0Seconds

देखी एक तस्वीर तो ,
याद आया मुझको मेरा बचपन।
मन मचल उठा मेरा यूं ही,
देखा जब मैंने बीता दर्पण।

ना जागने की जल्दी थी ,
ना थी सोने की चिंता,
अपनी मर्जी के मालिक थे ,
ना थी कोई फिकर ना कोई चिंता।

वो प्यार से जगाना मां का ,
वो सिर सहलाना मां का।
वो गोदी में उठाना मां का
वो आंचल में छिपाना मां का।

वो माखन रोटी नानी की ,
वो दूध मलाई मासी की।
वो कथा कहानी रानी की।
वो मक्के की रोटी पानी की,

वो बाबा जी की टॉफी सारी,
वो दादी जी की बातें न्यारी।
वो चाचा जी की घुड़सवारी,
वो बुआ जी की गोदी प्यारी।

वो मेलों में पैदल जाना,
वो मिट्टी के खिलौने लाना ।
वो झूले के लिए मचल जाना,
वो बेवजह का रोना धोना।

वो गुड्डे गुड़िया के खेल सजीले,
वो टेसू झेंझी के ब्याह रंगीले।
वो मीठे आम रसीले,
वो सरसों के खेत पीले।

वो गाएं बकरी भैंस चराना,
वो नदी में डुबकी लगाना।
यारों संग कंचे का खेल सुहाना,
वो मिलकर शोर मचाना ।

वो खाली डिब्बे की ढोल बजाना,
वो सखियों संग नाचना गाना।
वो फूलों के गहने बनाना,
वो दिन भर तितली सा उड़ना।

वो पगडंडियों पर चलना,
वो गिरना और संभलना।
वो साईकिल का पहिया चलना,
वो मास्टर जी का मुर्गा बनाना।

वो चूरन खट्टा मीठा सा,
वो इमली का स्वाद रसीला सा।
वो पांच पैसा चांदी सा,
वो खेल कबड्डी खो खो का।

खाली जेबों में खुशियों की थी ढेरी,
यादों ने आज गलियों में लगाई फेरी।
आज बस एक अभिलाषा है मेरी,
हे प्रभु कर दीजिए इसको पूरी।

काश फिर से मिल जाए बचपन,
बेफिक्री की रातें वो मस्ती भरे दिन।
जब चाहूं तब रात करूं जब चाहूं दिन
यारों की टोली संग धूम मचाऊं हर दिन।

चिंताओं की चिता जलाऊं मैं,
आज फिर से बचपन जी जाऊं मैं।
छोड़ कर दुनियादारी सब मैं,
खुद में ही खो जाऊं मैं।
सपना सिंह
औरैया(उत्तरप्रदेश)

2 0

matruadmin

Next Post

डाॅ मसानिया पर दोहे

Wed Sep 23 , 2020
दशरथ कवि मसानिया, आगर करते वास। लेखन की अद्भुत कला,दृष्टि जिनके पास।।1 सन छाछठ का जनम है,त्रिभाषा को ज्ञान। हिन्दी शोध प्रबंध लिखा,डाॅक्टर की पहिचान।।2 बैजनाथ महिमा रची,लिखते भाषा सूत्र। जटिल प्रणाली की सरल,बच्चों के बन मित्र।।3 बेटी चिरैया उड़ रहि,बेटी मोर विशेष। बेटी शंख बजा रही, जीवन का संदेश।।4 […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।