माँ का आँचल

Read Time0Seconds

मुसीबत में छाँव हूँ
ममता की बहार हूँ
स्नेह की सागर हूँ
मैं माता का आँचल हूँ

भूख का अंत हूँ
संस्कार की देवी हूँ
द्वेष का काल हूँ
मैं माता का आँचल हूँ

धूप में छाँव हूँ
दर्द की दवा हूँ
आंधी का आश्रा हूँ
मैं माता का आँचल हूँ

क्रोध में विवेक हूँ
बुद्धि में स्वाभिमानी हूँ
अल्हडता में चंचल हूँ
मैं माता का आँचल हूँ

गीत और लोडी हूँ
स्वभाव का सुन्दर हूँ
रंगो में सबरंग हूँ
मैं माता का आँचल हूँ

“आशुतोष”

नाम। – आशुतोष कुमार
साहित्यक उपनाम – आशुतोष
पटना ( बिहार)
कार्यक्षेत्र – जाॅब
शिक्षा – ऑनर्स अर्थशास्त्र
प्रकाशन – नगण्य
सम्मान। – नगण्य
अन्य उलब्धि – कभ्प्यूटर आपरेटर
टीवी टेक्नीशियन
लेखन का उद्द्श्य – सामाजिक जागृति

0 0

matruadmin

Next Post

शराब की लाईन

Sun May 10 , 2020
लॉक डाउन में महिलाएं शराब की लाईन में खड़ी थी। एक नहीं आठ आठ बोतलों के लिए वे लडी थी।। पुलिस वाले ने एक महिला से पूछा, बहन,क्या तुम शराब पीती हो ? क्यो तुम इतनी तेज धूप में खड़ी हो ? महिला ने जवाब दिया, मैं शराब नहीं पीती […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।