विवश किया जिन्होंने वो विवश हो गए।

Read Time0Seconds

विवश किया जिन्होंने वो विवश हो गए।
उठाकर हमें गहरी नींद से स्वयं सो गए।।

हमें सताने हेतु कांटे बोए जिन्होंने भी।
हम उनके लिए सुगंधित फूल बो गए।।

कर्मों का खेल है समय की प्रतीक्षा कर।
देखना अपनी दृष्टि से वो कहां खो गए।।

ईश्वर की लीला ईश्वर पर छोड़ दे भाई।
सुधर जाएं तो अच्छा अन्यथा तो गए।।

ये कर्म भूमि है बचना अत्यंत ही कठिन।
सांस आये तो आये वर्ना ‘बाली’ लो गए।।

इंदु भूषण बाली

0 0

matruadmin

Next Post

घर मुझे जन्नत से प्यारा मिला

Mon Mar 30 , 2020
घर मुझे जन्नत से प्यारा मिला खुशनुमा परिवार हमारा मिला इससे महफूज जगह कोई नहीं दर्द भी कांपता और हारा मिला एकदूसरे से इतनी हिम्मत मिली सच हमे अपनो का सहारा मिला बच्चो की मुस्कुराहट किलकारियां हँसी ठिठोली का जैसे नज़ारा मिला #किशोर छिपेश्वर ‘सागर’ परिचय : किशोर छिपेश्वर ‘सागर’ का वर्तमान […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।